जेल नहीं, ये गाँव हैं

मीडिया प्लेयर

इस ऑडियो/वीडियो के लिए आपको फ़्लैश प्लेयर के नए संस्करण की ज़रुरत है

वैकल्पिक मीडिया प्लेयर में सुनें/देखें

ग्रेटर नोएडा में यमुना एक्सप्रेस वे के किनारे बन रही स्पोर्ट्स सिटी और फ़ॉर्मूला वन कार रेस ट्रैक के कारण वहाँ के कई गाँवों को मिट्टी की ऊँची दीवारों और कँटीली तारबाड़ से घेर दिया गया है. उत्तर प्रदेश सरकार ने इन गाँवों की ज़मीन का अधिग्रहण करके उसे स्पोर्ट्स सिटी बनाने के लिए जेपी ग्रुप को लीज़ पर सौंप दिया. कंपनी ने इस ज़मीन की घेरबाड़ की जिससे कई गाँव चारों ओर से घिर गए.

गाँव के लोग शिकायत करते हैं कि पहले जहाँ वो दस मिनट में एक गाँव से दूसरे गाँव पहुँच जाते थे, अब उतनी ही दूरी तय करने के लिए उन्हें दस किलोमीटर का चक्कर लगाना पड़ता है. यमुना एक्सप्रेस वे के किनारे किनारे ग्रेटर नोएडा से आगरा तक की यात्रा से लौटे बीबीसी संवाददाता राजेश जोशी की रिपोर्ट.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.