प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

गरीबी का अपना उत्सव है

  • 9 अगस्त 2011

संजय चौहान ने मैं हू कलाम की कहानी और पटकथा लिखी है. संजय मानते हैं कि गरीबी दिखाने की बजाय गरीबों के जुझारुपन में उनकी अधिक रुचि है और इसी को उन्होंने फ़िल्म लिखते समय भी ध्यान में रखा था.