प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

पढ़ रही हैं लड़कियाँ पर तालिबान लौटने का डर

अफ़ग़ानिस्तान में काबुल की बच्चियाँ पढ़ाई लिखाई करने के लिए आज़ाद हैं, लेकिन 10 साल पहले तालिबान शासन के तहत वे अपने घरों में ही क़ैदियों की तरह रहने को मजबूर थीं. काबुल आज भी असुरक्षित शहर है पर यहाँ की कक्षाएँ उम्मीदों और महत्वाकांक्षा से भरी हुई है.

लेकिन इन स्कूलों के शिक्षक अतीत नहीं भूले हैं. वे जानते हैं कि ये सब ख़तरे में पड़ सकता है अगर तालिबान समीकरण में वापस आ जाता है.