एक पृष्ठभूमि, दो ज़िंदगियां

 शनिवार, 30 जून, 2012 को 08:58 IST तक के समाचार

इसे देखने के लिए आपके पास फ़्लैश प्लेयर-8 या उससे नया फ़्लैश प्लेयर होना चाहिए.
फ़्लैश प्लेयर इंस्टॉल करने के लिए नीचे क्लिक करें.

फ्लैश प्लेयर हासिल करें

भारत में एक बड़ा तबका है जिसे 21वीं सदी का समाज भी अपनाने से इंकार करता आया है. सुनिए उसी तबके की दो अलग-अलग जिंदगियों की कहानी.

दिल्ली की एक बस्ती में रहने वाली 22 वर्षीय टीना जहां दो वक्त की रोटी के लिए रोज़ाना संघर्ष करती है, तो वहीं मुंबई में एक कोठी में रहने वाली लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी ने समाज से लड़ कर ज़िंदगी की ऊंचाईयों को छुआ है.

जो लक्ष्मी के लिए संभव था, वो आखिर क्यों असंभव है भारत के लाखों किन्नरों के लिए?

(सभी तस्वीरें व संकलन - बीबीसी संवाददाता शालू यादव)

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.