ख़तरे में है पटना में जानवरों का घर

 रविवार, 2 सितंबर, 2012 को 18:34 IST तक के समाचार
  • पटना चिड़ियाघर
    पटना के चिड़ियाघर को बायोलोजिकल पार्क यानी जैविक उद्यान इसलिए माना गया है क्योंकि 145 एकड़ में दस हज़ार से अधिक वृक्षों के बीच यहाँ कुल बारह सौ जानवरों का बसेरा है (आलेख और तस्वीरें - मणिकांत ठाकुर)
  • पटना चिड़ियाघर
    पार्क में प्रवेश करते ही पेड़ के ऊपर बनी इस कुटिया पर निगाह टिक जाती है. एक समय इसमें चाय-नाश्ता बनाने से लेकर शौच तक की सुविधाएँ उपलब्ध थीं, क्योंकि राज्य के एक पूर्व मुख्यमंत्री यहाँ एकांत में कभी-कभी सरकारी फ़ाइलें निबटाने आया करते थे
  • पटना चिड़ियाघर
    इस चिड़ियाघर की आँखों का तारा बना हुआ यह सुन्दर बाघ अपनी ख़ास अदा से कैमरे की तरफ़ देखता है तो उसकी आँखों के भी तारे चमक उठते है. इनके घर में तीन शावकों का जन्म हुआ है
  • पटना चिड़ियाघर
    उद्यान की इस छोटी-सी झील में फुहारों के बीच नौका विहार का यह दृश्य तस्वीरों में उतरकर किसी मनोरम पर्यटन स्थल का आभास दे रहा है
  • पटना चिड़ियाघर
    इस बरसाती मौसम में हरे -भरे पौधों के बीच घास चरते ज़ेब्रा की ख़ूबसूरती यहाँ घेरे के भीतर भी निखर उठती है
  • पटना चिड़ियाघर
    एकल सींग वाले रायनो यानी गैंडे के प्रजनन और संरक्षण के मामले में पटना के इस चिड़ियाघर का देश में पहला और विश्व में दूसरा स्थान है
  • पटना चिड़ियाघर
    वन्य-प्राणी दत्तक ग्रहण यानी गोद लेने की योजना अब इस चिड़ियाघर में भी शुरू हुई है. एक महीने में पंद्रह संस्थाओं की ओर से जानवरों को गोद लिए जाने के कारण ज़ू को तीस लाख रूपए की आमदनी हुई है
  • पटना चिड़ियाघर
    अब इस जैविक उद्यान के निराश कर देने वाले कुछ स्याह पक्षों पर भी नज़र डालें. यहाँ इसी अगस्त महीने में छह सौ से अधिक बड़े-बड़े छायादार वृक्षों के सिर कलम कर दिये गये हैं
  • पटना चिड़ियाघर
    चिड़ियाघर के बिलकुल सटे हुए हवाई अड्डे पर विमानों के उतरने या उड़ने में दिक्क़त ना हो, इसलिए यहाँ ऊंचे पेड़ों की बेरहमी से कटाई-छंटाई कर दी गई है. लोगों में इस बात को लेकर भारी क्षोभ है, फिर भी हवाई अड्डे के आस-पास पेड़ों का इस तरह विनाश जारी है
  • पटना चिड़ियाघर
    पिंजरे के भीतर से गुर्राती एक मादा शेर की आँखों से लगा, जैसे शोलों के गोले निकल रहे हैं. मेरे कैमरे का लेंस उन आँखों की ज्वाला का और सामना नहीं कर सका

Videos and Photos

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.