'हिंदुस्तान का गुमान है मुंबई'

 सोमवार, 15 अक्तूबर, 2012 को 19:07 IST तक के समाचार
  • गेट वे ऑफ इंडिया
    मुंबई का ऐतिहासिक गेट वे ऑफ इंडिया साल 1911 में किंग जॉर्ज पंचम और क्वीन मैरी के स्वागत के लिए बनाया गया था. 1911 में ही भारत की राजधानी कलकत्ता से दिल्ली स्थानांतरित हुई.
  • 19सवीं-20वीं सदी की पुरातात्विक कला मुंबई की कई ऐतिहासिक इमारतों में आज भी जीवित है. लेकिन ये इमारतें दिल्ली की इमारतों की तरह केवल संग्रहालय नहीं बल्कि मुंबई की रोज़मर्रा ज़िंदगी का हिस्सा हैं.
  • मुंबई का छत्रपति शिवाजी टर्मिनस जिसे पहले विक्टोरिया टर्मिनस के रुप में जाना जाता था.
  • शहर के रुप में मुंबई ने 18वीं सदी से हलचल शुरु हुई. कहते हैं घनी आबादी वाले मुंबई शहर में ऐतिहासिक इमारतों से लेकर समुद्र तक शहर का शायद ही कोई कोना ऐसा हो जहां कोई अपना घर न बसा ले.
  • समुद्र किनारे बसे शहर मुंबई की जीविका कभी समुद्र से निकले मेवे यानी मछली पर आधारित थी. मछुआरों का शहर समय के साथ भारत की व्यावसायिक राजधानी बन गया.
  • मुंबई में ऐसी कई परंपराएं और त्योहार मनाए जाते हैं जो इस शहर के लिए सामुहिक उत्सव बन गए हैं. गणेश चतुर्थी के मौके पर हुल्लड़ में डूबी मुंबई.
  • मुंबई स्थित हाजी अली की दरगाह भारत में इस्लामी शैली की वास्तुकला की निशानी है. प्रेम करने वालों की कई दास्तानें इस दरगाह से जुड़ी हैं. हाजी अली में सैयद पीर हाजी अली और अली शाह बुखारी की मज़ार है.
  • मुंबई भारतीय सिनेमा की जन्मस्थली है जहां से रुपहले पर्दे के कई यादगार नाम और किरदार न सिर्फ दुनियाभर में मशहूर हुए बल्कि सपनों के इस शहर को हमेशा के लिए रंगीन बना दिया. (तस्वीर ज़ीशान हयात)
  • मुंबई
    हालांकि मुंबई एक व्यस्त शहर है लेकिन जीवन के हर रंग यहाँ दिखाई देते हैं
  • मुंबई
    मुंबई की सांस्कृतिक विरासत कुछ ऐसी है कि ये शेष भारत से थोड़ा ज़्यादा वेस्टर्न यानी पश्चिमी संस्कृति से रंगा दिखता है.
  • मुंबई
    मुंबई की बारिश का अपना मज़ा है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.