प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

अफजल गुरू को फांसी की सजा देने वाले जज से बातचीत

चार अगस्त 2005 को उच्चतम न्यायालय में पी वेंकटराम रेड्डी और प्रकाश प्रभाकर नाओलेकर की खंडपीठ ने अफजल गुरू को फांसी की सजा सुनाई थी.

अपने फैसले में उन्होंने कहा था कि संसद पर हमले ने देश को हिलाकर रख दिया है और समाज के 'सामूहिक विवेक' को उसी वक्त संतुष्ट किया जा सकता है जब अपराधी को फांसीकी सजा दी जाए.

बीबीसी संवाददाता विनीत खरे ने प्रकाश प्रभाकर नाओलेकर से बात की और उनसे भारत में फांसी को लेकर बढ़ती आवाजों के बारे में पूछा...