प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

भारतीय कंपनियों की ऊँची उड़ान

चौतरफ़ा मंदी के दौर में भी भारतीय अर्थव्यवस्था पटरी से नहीं उतरी. भारतीय कंपनियाँ लगातार मल्टीनेशनल बनती जा रही हैं.

साल 2000 से लेकर 2012 तक ये भारतीय कंपनियां दुनिया के लगभग हर कोने में अधिग्रहण करती आ रही हैं.

क्रोल एडवाइज़री के अनुसार अकेले साल 2012 में भारतीय कंपनियों ने करीब 11 अरब अमरीकी डॉलर ख़र्च कर कुल 72 अधिग्रहण किए.

बीबीसी ग्लोबल इंडिया की विशेष रिपोर्ट.