...कि नज़र ठहर जाए