प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

शिक्षा में तालिबान ही नहीं रोड़ा

पिछले साल तालिबान के जानलेवा हमले में घायल होने के बाद पाकिस्तानी लड़की मलाला यूसुफज़ई का नाम सुर्खियों में आ गया.

मलाला ने कुछ दिन पहले संयुक्त राष्ट्र में भाषण दिया. उन्होंने दुनिया के नेताओं से आह्वान किया कि वो ऐसा कुछ करें जिससे दुनिया में कहीं भी कोई बच्चा शिक्षा के अधिकार से वंचित ना रहे.

पाकिस्तान में अभी भी 70 लाख बच्चे स्कूल से दूर हैं. और इनमें से कई बच्चे तालिबान की वजह से नहीं बल्कि अपने हालात के कारण स्कूल नहीं जा पाते.