प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

ब्रिटेन का 'भारतीय उपनिवेश' अतीत का हिस्सा बना

15 अगस्त 1947 को भारत की आज़ादी से पहले क्या हो रहा था? बीबीसी हिंदी के लिए 1997 में मधुकर उपाध्याय ने 'पचास दिन पहले, पचास साल बाद' नाम से रिपोर्टें बनाई थीं जिसमें सिलसिलेवार ढंग से आज़ादी के पहले की घटनाओं का ज़िक्र था.

इस सीरीज में जानिए 18 जुलाई 1947 की घटनाओं के बारे मे.

जार्ज षष्टम के प्रतिनिधि हाउस ऑफ लार्डस में आए. उन्होनें भारतीय संवतंत्रता विधेयक को अपनी मंजूरी दी. इसके बाद ब्रिटेन का भारतीय उपनिवेश अतीत का हिस्सा बन गया. त्रावणकोर के शासक ने 15 अगस्त को आज़ाद होने की घोषण का कांग्रेस ने कड़ी विरोध किया. दिल्ली में शरणार्थियों की समस्या उत्पन्न हो गया गया है.