प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

टॉकिंग सिनेमा: कलाकार के मन और ज़हन को टटोलने की कोशिश

सिनेमा के पर्दे पर हम कई कलाकारों को अलग अलग किरदारों में देखते हैं. लेकिन शॉट देते समय आखिर उनके मन में क्या चल रहा होता है. एक निर्देशक का क्या नज़रिया होता है. इसी पर भावना सोमाया ने लिखी है किताब टॉकिंग सिेनेमा