फ़ारूक़ शेख
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

भद्दी कॉमेडी हमने कभी नहीं की: फ़ारूक़ शेख

1981 में रिलीज़ हुई फ़ारुक़ शेख और दीप्ति नवल की फ़िल्म 'चश्मे बद्दूर' को भला कौन भूल सकता है. फ़ारुक़ शेख ने ऐसी ही कई गुदगुदाने वाली हल्की फ़ुल्की, स्वस्थ हास्य वाली फ़िल्में कीं.

बीबीसी से एक ख़ास बातचीत में फ़ारुक़ ने ऐसी ही फ़िल्मों के बारे में चर्चा की. साथ ही उन्होंने मौजूदा दौर की फ़िल्मों पर भी अपनी राय रखी.

पेश है इस बातचीत के कुछ मुख्य अंश. फ़ारूक़ से ये बात की बीबीसी संवाददाता विदित मेहरा ने.