गुलज़ार
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

लिखूंगा नहीं तो खाऊंगा क्या: गुलज़ार

गुलज़ार से जब एक दफ़ा बीबीसी ने ख़ास मुलाक़ात के दौरान पूछा कि 50 सालों से लगातार लिख रहे हैं और इस उम्र में भी आराम नहीं कर रहे हैं तो गुलज़ार बोले, "मेरे पास ऐसी अय्याशी की कोई गुंजाइश ही नहीं है. लिखूंगा नहीं तो खाऊंगा क्या."

गुलज़ार को दादा साहब फालके सम्मान से भी नवाज़ा गया है. 18 अगस्त 2015 को उनका 81वाँ जन्मदिन है. इस मौक़े पर पेश है बीबीसी रेडियो के खज़ाने ये ख़ास पेशकश.