स्तब्ध कर देने वाले नॉर्वे के 12 नज़ारे

  • 4 मार्च 2015
इमेज कॉपीरइट toom vooght

ब्रिटिश फ़ोटोग्राफ़र टॉम वूहट ने नार्वे की ख़ूबसूरती को अपने कैमरे में कैद करने को एक मिशन के तौर पर लिया.

वे कहते हैं, "यह अद्भुत देश है. देश में सर्दी काफी ज़्यादा भले हो लेकिन यहां के लोग बड़ी गर्माहट से मिलते हैं. हमेशा आपकी मदद के लिए तैयार होते हैं. आसमान इतना साफ़ होता है कि ख़ूबसूरत नज़ारे दिखाई देते हैं. स्वादिष्ट व्यंजन के अलावा आसमान में नजर आने वाली जादुई रोशनी भी यहां की ख़ास बाते हैं."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

यहां के मौसम के बारे में टॉम कहते हैं, "जब तक आपके पास पर्याप्त कपड़े हों और घर में गर्माहट की व्यवस्था, आप यहां के मौसम को झेल सकते हैं."

टॉम फ़ोटोग्राफ़ी के लिए नॉर्वे के सबसे उत्तरी हिस्से तक पहुंचे जहां औसत तापमान के मुक़ाबले काफ़ी ज़्यादा ठंड होती है.

इसी दौरान टॉम उत्तरी नॉर्वे के दक्षिण पूर्व शहर ट्रॉमसो से 50 किलोमीटर दूर के गांव ब्रेवीकेडेट पहुंचे.

वहां के अनुभव के बारे में टॉम ने बताया, "मुझे बताया गया कि कुछ ही घंटे में तापमान शून्य से 30 डिग्री कम हो जाएगा. मेरे साथी फ़ोटोग्राफ़र ने दस्ताने चढ़ा लिए, लेकिन इससे उसे राहत नहीं मिली."

टॉम आगे बताते हैं कि जब रोशनी कम होने लगी तो पर्वत चमकने लगे और आसमान जादुई रंग से भर उठा.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

उन्होंने बताया कि ऊपर की तस्वीर दो तस्वीरों को मिलाकर कंप्यूटर की मध्यम से तैयार किया गया है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

टॉम ने कहा, "अल्टा से ट्रॉमसो की ओर जाते वक्त मैं ने कई ख़ूबसूरत लैंडस्कैप देखे. ऐसी ही तीन तस्वीरों को कंप्यूटर की मदद से तैयार कर ऊपर वाली तस्वीर तैयार हुई."

ट्रॉमसो में ही, उन्हें नॉर्दन लाइट्स को देखने का मौका मिला. उन्हें यात्रा करने से पहले सलाह मिली थी कि इस समय में नॉर्दन लाइट्स को देखने का मौका नहीं मिल पाएगा.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

उन्होंने बताया, "मैं होटल पहुंचा, अपना बैग कमरे में रखा. ट्राईपॉड और कैमरा लेकर बाहर निकला. मुझे आसमान में हरी रोशनी दिखाई पड़ी. मैं तस्वीरें उतारनी शुरू कर दीं."

दरअसल आसमान में नजर आने वाली ऐसी जादुई रोशनी सौरमंडल के वैज्ञानिक रहस्यों में शामिल है.

जब सूर्य के चुंबकीय क्षेत्र से भारी मात्रा में आवेशित कण तेज गति से बाहर निकल कर पृथ्वी की चुंबकीय कक्षा में आते हैं तो ऑक्सीजन और नाइट्रोजन से प्रतिक्रिया कर लाल, हरा और बैंगनी रंग का जादुई संसार बनाते हैं.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

लोफोतेन ज़िले की यात्रा के दौरान टॉम ने पर्वत चोटियों, खुले समुद्र और उसके पास से गुजरती खाड़ियों की तस्वीरें लीं.

वागेन शहर में टॉम ने ऑस्टरकैचर पक्षी की तस्वीर ली जब वह अपने घोंसले में बैठा हुआ था, जो समुद्र की सतह पर बना हुआ था.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

टॉम के लिए सबसे चुनौतीपूर्ण मुश्किल तब आई जब उन्हें व्हेल मछलियों को क़ैद करने का मौका मिला.

नॉर्डलैंड काउंटी के समुद्री तटों से समुद्र के अंदर घंटे भर के सफर के बाद टॉम को व्हेल का समूह दिखाई पड़ा.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

टॉम अब तक पांच बार नॉर्वे की यात्रा कर चुके हैं. उन्होंने काफी नॉर्वे देख भी लिया है.

फ़िनमार्क नॉर्वे के सबसे उत्तर में स्थित है और देश का सबसे बड़ा काउंटी है. पूरे डेनमार्क से भी बड़ा. इसकी आबादी करीब 75 हज़ार है, नार्वे की काउंटी में सबसे कम घनी आबादी वाला काउंटी है फिनमार्क.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

फ़िनमार्क के उत्तर में स्थित है स्केरसवाग, जो मछलियों की वजह से मशहूर है. जून के महीने में यहां कड़ाके की ठंड होती है.

टॉम बताते हैं, "मैंने कई समुद्री आर्कटिक पक्षियों को भोजन की तलाश करते देखा."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

नॉर्वे की यात्रा से पहले काफी रिसर्च करने के बावजूद टॉम मानते हैं कि वे उत्तरी नॉर्वे के सभी वन्य जीवों की तस्वीर नहीं ले पाए.

उन्होंने ट्रॉमसो काउंटी के बारडू वाइल्डलाइफ़ सेंटर का दौरा भी किया. वहां उन्हें कई वन्य जीवों को कैमरे से कैद करने का मौका मिला.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

इस दौरान उन्हें दुर्लभ प्रजाति के बनबिलाव की तस्वीर लेने का मौका भी मिला. टॉम ने बताया, "इस तरह की वास्तविक तस्वीर को लेने के लिए आपको वाइल्डलाइफ़ पार्क ही जाना पड़ेगा."

टॉम को इस दौरान एक भेड़िए के साथ आंख मिलाने का मौका भी मिला. इसके बारे में टॉम कहते हैं, "यह उतना ख़तरनाक तो नहीं था, जितना मैं चाहता था. लेकिन यह ख़तरनाक जरूर था."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

टॉम बताते हैं कि उन्हें इस तस्वीर से प्यार है और ये उनके दिल के बेहद करीब भी है.

अंग्रेज़ी में मूल लेख यहां पढ़ें, जो बीबीसी अर्थ पर उपलब्ध है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार