धनलक्ष्मी
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

'कैसे साबित करूं वो कैसे मरे ?'

  • 12 जून 2015

विजयवाड़ा से 55 किलोमीटर दूर नंदिगामा में ग़रीबी की रेखा से नीचे रहने वालों की बस्ती है 'डी वी आर' कालोनी जहां मातम का माहौल है. यहाँ रहने वाली धनलक्ष्मी के सामने अब सबसे बड़ा सवाल है कि उनके और उनके तीन बच्चों का पेट कैसे पलेगा. धनलक्ष्मी के पति 25 वर्षीया गोपू चाद्रैयाह उर्फ़ चंदू फेरी लगाकर छातों की मरम्मत करने का काम करते थे.

धनलक्ष्मी कहती हैं कि जब इस इलाके में पारा 47 डिग्री को पार कर रहा था उसी दौरान चंदू को लू लग गयी और उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहाँ उनकी मौत हो गयी.

उनसे मिलने पहुँचे बीबीसी संवाददाता सलमान रावी. सुनिए धनलक्ष्मी की कहानी उन्हीं की ज़ुबानी.