afghan_refugee_india
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

छूटी नहीं है वतन लौटने की आस

इसी हफ़्ते आई संयुक्त राष्ट्र रिफ्यूजी हाई कमिश्नर की रिपोर्ट कहती है कि प्रतिदिन घर छोड़ने वालों की संख्या 2013 में 32000 थी जो 2014 में 42000 को पार कर गई.

भारत में पनाह लेने वाले शरणार्थियों की संख्या भी लाखों में हैं और इसका एक बड़ा हिस्सा अफ़ग़ानिस्तान से आए लोगों का हैं लेकिन उनमें वतन लौटने की आस अभी टूटी नहीं.दिल्ली से तूलिका भटनागर की रिपोर्ट

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की खबरें ट्विटर और फ़ेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

.................................................................................................................................................................................

बीबीसी हिंदी का ग्लोबल इंडिया कार्यक्रम आप ईटीवी नेटवर्क पर देख सकते हैं.

शुक्रवार

शाम 6.30 बजे - ईटीवी यूपी और उत्तरांचल, ईटीवी बिहार, ईटीवी हरियाणा, ईटीवी हिमाचल, ईटीवी मध्यप्रदेश

रात 9.30 बजे - ईटीवी राजस्थान