पीयूष पांडे
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

ब्रैंडमैन पीयूष पांडे

आपने अपने जीवन में भी वो सब चीज़ें देखी होंगी जो विज्ञापनों के बादशाह पीयूष पांडे ने अपने जीवन में देखी हैं... मोची, बढ़ई, क्रिकेटर, ट्रेन, गाँव, शहर और कस्बे... लेकिन जो चीज़ पीयूष को दूसरों से अलग करती है, वो है उसी चीज़ को दूसरे नज़रिए से देखने की उनकी क्षमता.

फ़ेवीकोल से ले कर कैडबरीज़, लूना और सेंटर फ़्रेश के जीभ लपलपाई जैसे कितने ही विज्ञापनों ने आपको ठिठकने और मुस्कराने के लिए मजबूर किया होगा. हाल ही में उन्होंने अपने संस्मरणों पर एक किताब लिखी है पैंडिमोनियम.

इस हफ्ते विवेचना में रेहान फ़ज़ल नज़र दौड़ा रहे हैं पीयूष पांडे के अब तक के सृजनात्मक सफ़र पर.