एयर फ़्रांस का विमान लापता, तलाशी तेज़

एयर फ़्रांस
Image caption विमान के लापता होने की ख़बर के बाद पेरिस में हवाई अड्डे पर काफ़ी बेचैनी का माहौल है

ब्राज़ील के रियो डे जेनेरो से 228 लोगों को लेकर पेरिस आ रहा एयर फ्रांस का एक विमान लापता हो गया है और विमान की अंतररष्ट्रीय स्तर पर तलाशी हो रही है.

विमान की तलाशी में ब्राज़ील, फ्रांस, स्पेन और सेनेगल के वायुयान लगे हुए हैं. फ्रांस ने अमरीका से आग्रह किया है कि वो अपने जासूसी उपग्रहों के नेटवर्क की मदद से विमान को खोजने में मदद करे.

विमान परिवहन के रडार से गायब होने के घंटों बाद अभी तक दावे के साथ कुछ नहीं कहा जा सकता कि विमान के साथ क्या हुआ है.

एयर फ्रांस के प्रमुख के अनुसार विमान से मिले आखिरी इलेक्ट्रानिक संदेश में कहा गया था कि एक तूफ़ान से गुज़रने के बाद विमान के इलेक्ट्रानिक सिस्टम में गड़बड़ी आ गई थी.

फ्रांस के राष्ट्रपति निकोलाई सारकोज़ी ने कहा है कि इस बात की संभावना नगण्य है कि विमान यात्रियों में से कोई बचा हो.

एयर फ़्रांस के अधिकारियों के अनुसार विमान पर संभवतः बिजली गिरने के बाद वह विमान अटलांटिक महासागर के ऊपर से लापता हो गया है.

फ्रांस के चार्ल्स डि गॉल एयरपोर्ट पर विमानयात्रियों के संबंधियों से फ्रांस के राष्ट्रपति ने कहा कि विमानयात्रियों के बचने की संभावना नगण्य है.

विमान का रास्ता

ब्राज़ील में रियो डि जेनेरो से उड़ने के चार घंटे बाद, ग्रीनिच मान समय यानी जीएमटी के अनुसार 0214 पर, विमान ने शॉर्ट सर्किट का संकेत दिया. उस समय विमान ख़राब मौसम का सामना कर रहा था.

उस समय तक विमान अटलांटिक महासागर के ऊपर उड़ रहा था और शायद यही वजह है कि ब्राज़ीलियाई और फ़्रांसीसी खोज दलों का काम और मुश्किल हो गया है.

दुर्घटना की ख़बर आने के बाद पेरिस के चार्ल्स डि गॉल हवाई अड्डे पर एक आपदा केंद्र बनाया गया है.

एयर फ़्रांस के मुख्य कार्यकारी पिए-ऑनरी गॉर्जाँ ने संवाददाताओं से कहा, "बेशक़ हम लोगों के सामने एक हवाई दुर्घटना का मामला है. पूरी कंपनी उन परिवारों और उनके दर्द के बारे में सोच रही है."

विमान में 216 यात्री और तीन पायलटों सहित चालक दल के 12 सदस्य सवार थे. यात्रियों में एक शिशु, सात बच्चे, 82 महिलाएँ और 126 पुरुष थे.

फ़्रांस की सरकार के अनुसार विमान में अधिकतर लोग ब्राज़ीलियाई नागरिक थे जबकि अन्य लोगों में 40 फ़्रांसीसी और 20 जर्मन लोग थे.

संपर्क टूटा

Image caption उस विमान पर सवार लोगों के परिजन पेरिस में पहुँचने लगे हैं

फ़्लाइट एएफ़ 447 रियो से स्थानीय समयानुसार शाम सात बजे यानी जीएमटी के मुताबिक़ रात दस बजे उड़ी थी.

हवाई अड्डे के एक अधिकारी ने एएफ़पी समाचार एजेंसी को बताया है कि एयरबस 330-200 को पेरिस में सुबह 0910 जीएमटी पर पहुँचना था.

पेरिस के चार्ल्स डि गॉल हवाई अड्डे से बताया गया कि रियो डि जेनेरो से उड़े इस विमान से ग्रीनिच मान समय यानी जीएमटी के अनुसार रात डेढ़ बजे संपर्क टूट गया.

ब्राज़ीलियाई वायु सेना के प्रवक्ता कर्नल हेनरी मुनहोज़ ने ब्राज़ील के टीवी समाचार चैनल को बताया है कि जब विमान अटलांटिक महासागर के ऊपर उड़ रहा था तो रडार से उसका संपर्क टूट गया.

एयर फ़ोर्स के संचार अधिकारी फ़्रैंकुआ ब्रूसे ने पेरिस में संवाददाताओं को बताया, "संभव है कि विमान पर बिजली गिर गई हो."

जबकि ब्राज़ील की नागरिक उड्डन एजेंसी के जाँच विभाग के प्रमुख डगलस फ़रेरा मकाडो का कहना था कि खोज में लंबा समय लग सकता है.

उन्होंने कहा, "ये एक लंबी और दुखद कहानी हो सकती है. ब्लैक बॉक्स अब तो शायद समुद्र के तल में होगा."

फ़्रांस के परिवहन मंत्री ज़्याँ-लुई बोरलू ने विमान के अग़वा किए जाने से इनकार किया.

यात्रियों के परिजन आँसू भरी आँखों से पेरिस के चार्ल्स डि गॉल हवाई अड्डे पर पहुँच रहे हैं. उधर रियो डि जेनेरो हवाई अड्डे पर भी कुछ ऐसा ही दृश्य है.

जुलाई 2007 के बाद ब्राज़ील में ये सबसे बड़ी घटना मानी जा रही है. उस समय साओ पाओलो में टैम विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया था. उस दुर्घटना में 199 लोग मारे गए थे.

संबंधित इंटरनेट लिंक

बीबीसी बाहरी इंटरनेट साइट की सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है