धमाकों के पीछे चरमपंथियों का हाथ

  • 19 जुलाई 2009
Image caption जकार्ता में पहले भी होटलों को निशाना बनाकर धमाके किए जा चुके हैं.

इंडोनेशिया के सुरक्षा अधिकारियों का कहना है कि शुक्रवार को जकार्ता में हुए बम धमाकों के पीछे चरमपंथी इस्लामी नेता नूरदीन टोप का हाथ होने के संकेत मिले हैं. नूरदीन टोप अल क़ायदा से जुड़े हुए गुट जेमा इस्लामिया से अलग हुए एक अन्य गुट के प्रमुख हैं. जकार्ता के दो होटलों में हुए बम धमाकों में शुक्रवार को आठ लोग मारे गए थे जिनमें दोनों आत्मघाती हमलावर भी शामिल हैं. इंडोनेशिया के राष्ट्रपति सुसीलो बामबांग युद्धोयोनो ने घटनास्थल का दौरा किया है और उन्हें धमाकों के बारे में पूरी जानकारी दी गई है. उनका कहना था कि इंडोनेशिया को भविष्य में और अधिक सतर्क रहने की ज़रुरत है. उन्होंने उम्मीद जताई कि सरकार उन लोगों को पकड़ने में कामयाब रहेगी जिन्होंने इन धमाकों को अंजाम दिया है. इंडोनेशिया के आतंकवाद निरोधक मामलों के प्रमुख अंसयाद मबाई ने बीबीसी को बताया कि उन्हें इस बात के संकेत मिले हैं कि हमलों के बीछे मलेशिया से सक्रिय चरमपंथी नूरदीन टोप का हाथ है. सुरक्षा विशेषज्ञों का कहना है कि ये हमले चरमपंथी संगठनों के हमलों की तरह लगते हैं लेकिन इनके बारे में इतनी जल्दी कुछ कहा नहीं जा सकता.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार