'अमरीका और चीन के रिश्ते दिशा देंगे'

  • 28 जुलाई 2009
ओबामा
Image caption अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने चीन के साथ रिश्तों को अहम बताया है

राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि अमरीका और चीन के रिश्ते 21वीं शताब्दी को दिशा देंगे.

वॉशिंगटन में दोनों देशों के उच्च अधिकारियों के दोदिवसीय एक सम्मेलन में उन्होंने ये बात कही.

राष्ट्रपति ओबामा का कहना था कि हम जलवायु परिवर्तन, सुरक्षा और अर्थव्यवस्था जैसे समान हितों के मुद्दों पर बात करेंगे और हमारा रास्ता टकराव के बजाय सहयोग का होगा.

ओबामा का कहना था कि मंदी ने दिखा दिया है कि दोनों देशों के फ़ैसलों का एकदूसरे पर क्या असर होता है.

अमरीका और चीन के बीच ये बातचीत अर्थव्यवस्था को मंदी से उबारने पर केंद्रित हो सकती है.

हालांकि उत्तर कोरिया और ईरान के परमाणु हथियारों और प्रदूषण रहित ऊर्जा के स्रोतों पर भी बातचीत होगी.

इस बातचीत में अमरीकी वित्त मंत्री टिमोथी गेथनर विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन हिस्सा ले रही हैं जबकि चीन के दल का नेतृत्व उनके उपप्रधानमंत्री वांग चिशन कर रहे हैं.

दरअसल अमरीका में अर्थव्यवस्था को लेकर चिंताएँ बढ़ गईं हैं. अमरीका का बजट घाटा बढ़कर एक ख़रब डॉलर तक पहुंच गया है.

इस समय हज़ारों की संख्या में अमरीकी नागरिक बेरोज़गार हैं और आयकर वसूली में बड़ी कमी देखी जा रही है.

अमरीकी अर्थव्यवस्था की ऐसी स्थिति के कारण दुनिया भर में चिंताएं बढ़ रही हैं.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार