भारत के दीप जोशी को मैग्सेसे अवार्ड

  • 3 अगस्त 2009
दीप जोशी ( फोटो सौजन्य प्रदान)
Image caption दीप जोशी समेत छह लोगों को मैग्सेसे अवार्ड मिला है.

इस वर्ष का रेमॉन मैग्सेसे अवार्ड भारत के दीप जोशी और बर्मा के मानवाधिकार कार्यकर्ता का सा वा समेत छह लोगों को दिया गया है.

भारत के दीप जोशी को स्वयंसेवी संगठनों में प्रोफ़ेशनलिज़्म लाने और नेतृत्व क्षमता के लिए दिया गया है.

60 वर्षीय जोशी अमरीका के हार्वर्ड और मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नॉलॉजी जैसे संस्थानों में पढ़े हुए हैं लेकिन भारत में आकर उन्होंने अपनी सेवाएं स्वयंसेवी संगठनों को दी.

वो लंबे समय तक प्रदान नामक संस्था से जुड़े रहे और देश के कई ग़रीब ज़िलों में कार्य किया. अवार्ड फाउंडेशन के अनुसार दीप जोशी ने ग्रामीण समुदायों के विकास के लिए दिल और दिमाग को एक करने का काम किया है.

दीप जोशी के अलावा थाईलैंड की कृष्णा कराईसिंटू को भी मैग्सेसे अवार्ड के लिए चुना गया है. कृष्णा को थाईलैंड में दवाओं की दिशा में अच्छे काम के लिए यह अवार्ड दिया गया है.

अवार्डों में इस वर्ष चीन के दो लोगों के नाम हैं. यू जियाओगैंग को चीन में बांधों से प्रभावितों के लिए विकास के कार्य करने लिए यह सम्मान दिया गया है.चीन के मा जुन को भी यह सम्मान दिया गया है जिन्होंने चीन के जल संकट से निपटने की दिशा में सराहनीय कार्य किया है.

फिलीपींस के अंटोनियो ओपोसा जूनियर को मैग्सेसे अवार्ड दिया गया है. उनको फिलीपींस के लोगों में क़ानून के प्रति जागरुकता फैलाने की दिशा में अच्छे काम के लिए अवार्ड दिया गया है.

बर्मा के का सा वा को बर्मा में अहिंसक तरीकों से मानवाधिकार उल्लंघन के ख़िलाफ़ कार्य करने के लिए मैगसेसे अवार्ड दिया जा रहा है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार