संदिग्ध चरमपंथी गिरफ़्तार

  • 4 अगस्त 2009
Image caption पुलिस ने 19 इमारतों पर छापे मारे

ऑस्ट्रेलिया की पुलिस ने मेलबर्न में चार संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया है. पुलिस का कहना है कि वे लोग एक सैन्य अड्डे पर आतंकवादी हमला करने की योजना बना रहे थे.

मंगलवार को मेलबर्न में 19 इमारतों की तलाशी ली गई जिसमें 400 से ज़्यादा पुलिसकर्मियों ने हिस्सा लिया.

जिन लोगों को पकड़ा गया है वे सोमाली और लेबनानी मूल के ऑस्ट्रेलियाई नागरिक हैं. 25 वर्षीय एक व्यक्ति पर आतंकवाद के सिलसिले में आरोप लगाए गए हैं.

माना जा रहा है कि दो अन्य लोगों के ख़िलाफ़ मामला दर्ज किया जाएगा जबकि चौथे व्यक्ति से पूछताछ करने के लिए कोर्ट ने पुलिस को आठ घंटे दिए हैं.

पुलिस के बयान में कहा गया है, "पुलिस का मानना है कि मेलबर्न से चलाए जा रहे एक गुट के सदस्य ऑस्ट्रेलिया में आतंकवादी हमले की योजना बना रहे थे और वे कथित तौर पर सोमालिया में भी गतिविधियों में लिप्त हैं."

हमले की योजना

ऑस्ट्रेलियाई फ़ेडरल पुलिस के कार्यवाहक पुलिस आयुक्त टोनी नेगुस ने कहा, "इन लोगों का इरादा सेना छावनियों में जाकर ख़ुद की जान जाने से पहले ज़्यादा से ज़्यादा सैनिकों को मारना था."

पुलिस के मुताबिक सिडनी के बाहरी इलाक़े में बनी हॉलसवर्थी छावनी भी निशाने पर थी.

टोनी नेगुस के मुताबिक ये ऑस्ट्रेलियाई धरती पर सबसे बड़ा आतंकवादी हमला होता.

उधर ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री केविन रड ने कहा है कि ये घटना दर्शाती है कि आतंकवाद का ख़तरा बरकरार है और सुरक्षाकर्मियों की ओर से बेहद सतर्कता की ज़रूरत है.

2003 के बाद से ऑस्ट्रेलिया में सुरक्षा को मध्यम स्तर पर रखा गया है.

पुलिस का कहना है कि ताज़ा छापे सात महीने से चले अभियान के बाद मारे गए हैं जिसमें कई प्रांतीय और केंद्रीय एजेंसियाँ शामिल थीं.

पुलिस के मुताबिक पकड़े गए लोग सोमालिया के शबाब गुट के हैं जिसका मकसद सोमालिया की सरकार को गिराना है. इस गुट के अल क़ायदा से भी संबंध होने की बात उठती रही है.

द ऑस्ट्रेलियन अख़बार का कहना है कि मेलबर्न से काम कर रहे गुट के सदस्य पिछले कुछ महीनों में प्रशिक्षण लेने के लिए सोमालिया गए थे.

संबंधित समाचार