'कंगाली में कुँवारा रहें'

जापान के प्रधानमंत्री तारो असो ने अपने देश के ग़रीब युवाओं को सलाह दी है की वे विवाह न करें. तारो असो ने ये टिप्पणी रविवार को होने वाले आम चुनाव के प्रचार के दौरान की है.

Image caption जापानी प्रधानमंत्री अपनी टिप्पणी से विवादों में आ जाते हैं

जापान के जनमत सर्वेक्षण बता रहे हैं हैं कि भारी बेरोज़गारी की वजह से उनकी लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी हार की ओर बढ रही है.

मौजूदा चुनावों के दौरान रोज़गार सुरक्षा सबसे बड़ा मुद्दा है. लोग छोटे समय के रोज़गार अनुबंधों को लेकर गुस्से में हैं.

प्रधानमंत्री असो से जब ये पूछा गया कि क्या ग़रीबी की वजह से लोग देर से शादी कर रहे हैं जिसकी वजह से जापान में जन्म दर गिर रही है, तो उनका जवाब था- बेहतर होगा की धन के अभाव में जी रहे युवा शादी न करें.

विवाद

उन्होंने कहा कि वे ये समझ नहीं पाते की बग़ैर वेतन के इंसान को सम्मान कैसे हासिल हो सकता है.

जापान के मौजूदा हालात को देखते हुए इसे एक दुर्भाग्यपूर्ण टिप्पणी के रूप में देखा जा रहा है. जापान के मौजूदा प्रधानमंत्री अक्सर अपनी टिप्पणियों से विवाद में आ जाते हैं. एक बार उन्होंने डॉक्टरों की एक बैठक में यह कह दिया कि उनमें सामान्य समझदारी का अभाव है.

इससे भी मज़ेदार घटना में एक बार उन्होंने अविभावकों की एक बैठक को शिक्षकों की बैठक समझ कर यह कह दिया कि बच्चों के बजाय अविभावकों को डांट की ज़रूरत है.

संबंधित समाचार