क्यूबा में संगीत समारोह पर नाराज़गी

  • 20 सितंबर 2009
कोलंबियाई संगीत स्टार ह्वानेस

क्यूबा में आज 1959 के विद्रोह के बाद से अब तक का सबसे बड़ा संगीत समारोह होने जा रहा है जिससे अमरीका में रहनेवाले निर्वासित क्यूबाई लोग बेहद नाराज़ हैं.

इस समारोह में क्यूबा के अलावा लैटिन अमरीका के दूसरे देशों और स्पेन के नामी म्यूज़िक बैंड हिस्सा ले रहे हैं.

राजधानी हवाना में होनेवाले इस समारोह का नाम रखा गया है – पीस विदाउट बोर्डर्स और समझा जा रहा है कि इसमें भारी भीड़ जुटेगी.

समारोह का आयोजन अमरीकी शहर मयामी में रहनेवाले कोलंबियाई गायक ह्वानेस ने किया है और उन्हें मयामी में ही रहनेवाले निर्वासित क्यूबाईयों की ओर से मौत की धमकी दी गई है.

ग्रैमी पुरस्कार प्राप्त ह्वानेस ने कहा है कि उन्हें ये धमकी अमरीका में रहनेवाले कुछ गुटों ने दी है जो क्यूबा के कम्युनिस्ट शासकों का विरोध करते हैं.

मगर क्यूबा के भीतर रहनेवाले राजनीतिक असंतुष्टों ने इस संगीत आयोजन का समर्थन किया है.

विरोध और समर्थन

Image caption पीस विदाउट बोर्डर्स समारोह में भारी भीड़ जुटने की आशा की जा रही है

समारोह पर आपत्ति करनेवाले आलोचकों का कहना है कि ये समारोह क्यूबा की कम्युनिस्ट सत्ता का समर्थन करता है.

मगर क्यूबाई जेलों में बंद असंतुष्टों का कहना है ये समारोह सुलह का एक अवसर लेकर आया है.

क्यूबाई जेलों में बंद 20 से ज़्यादा राजनीतिक बंदियों ने इस माह के आरंभ में संगीत समारोह के समर्थन में एक संदेश जारी किया था.

हालाँकि ह्वानेस ने अपने समारोह के अभ्यास के दौरान कहा कि ये समारोह शांति और सहिष्णुता के लिए हो रहा है और इसका राजनीति से कोई लेना-देना नहीं है.

ह्वानेस ने कहा,"ये शांति का संदेश है, और ना केवल क्यूबा के लिए बल्कि इस सारे क्षेत्र के लिए."

समारोह में कोई 15 नामी म्यूज़िक बैंड हिस्सा ले रहे हैं. महत्वपूर्ण कलाकारों में स्पेन के मिगुएल बोस, प्युएर्टो रिको के ओल्गा टैनन और क्यूबा के सिल्वियो रोद्रिगेज़ और लॉस वान वान के नाम शामिल हैं.

रिवोल्यूशन स्क्वायर

हवाना से बीबीसी के संवाददाता माइकल वॉस का कहना है कि इस समारोह का आयोजन जिस स्थान पर हो रहा है वह अपने आप में प्रतीकात्मक है.

समारोह रिवोल्यूशन स्क्वायर पर हो रहा है जहाँ कि कम्युनिस्ट पार्टी का मुख्यालय है और साथ ही वहाँ प्रख्यात साम्यवादी नेता चे गुएवारा की भी एक विशाल मुखाकृति भी लगी हुई है.

इसी चौराहे पर क्यूबाई नेता फ़िडेल कास्त्रो पाँच-पाँच घंटों तक भाषण दिया करते थे.

रिवोल्यूशन स्क्वायर पर ही कैथोलिक ईसाई धर्मगुरू पोप जॉन पॉल द्वितीय ने 1998 में खुले आकाश के तले एक ऐतिहासिक प्रार्थना सभा की थी.

संबंधित समाचार