मंत्री से मांगा और सैनिक

अफगानिस्तान में काम कर रहे एक ब्रिटिश सैनिक ने वहां की यात्रा पर गए अपने रक्षामंत्री से कहा है कि अफगानिस्तान में और भी सैनिकों की ज़रूरत है.
Image caption अफ़गानिस्तान में 2001 से गठबंधन सैनिक तैनात हैं
ब्रिटेन के रक्षामंत्री बॉब आइंसवर्थ ने सैनिक किम हघेस से पूछा था कि इस वक़्त तुम्हारी सबसे प्रबल इच्छा, ठीक यहाँ की ज़मीन से, क्या है? किम हघेस अफगानिस्तान में तैनात ब्रिटेन के बम निरोधक दस्ते के विशेषज्ञ हैं. किम हघेस ने रक्षामंत्री के सवाल के जवाब में कहा, " हमें और भी सैनिकों की ज़रूरत है यहाँ." बॉब आइंसवर्थ और किम हघेस की पूरी बातचीत काफी दिलचस्प है. किम हघेस की "और सैनिकों" की मांग पर आश्चर्य व्यक्त करते हुए रक्षामंत्री ने कहा कि वो और हथियार और उपकरण की मांग क्यूँ नहीं कर रहे?" तब किम हघेस ने कहा कि " और ज़्यादा हथियार वगैरह तो आदर्श स्थिति है, लेकिन फिलहाल हमारे पास हल्के हथियार तो हैं हीं, लेकिन अगर और लोग आ जाते हैं, तो उनके साथ तो और हथियार आ ही जाएगा." किम हघेस की मांग के जवाब में रक्षामंत्री बॉब आइंसवर्थ ने कहा कि "और सैनिकों की तैनाती एक धीमी प्रक्रिया हो सकती है और वो भी अकेले ब्रिटेन नहीं कर पाएगा.हमें कोशिश करनी होगी कि दूसरे भी अपने हिस्से का काम करें." बॉब आइंसवर्थ अपने देश के गृहमंत्री ऐलन जॉन्सन के साथ अफगानिस्तान के हेलमंद प्रान्त में ब्रितानी सैनिकों के मुख्य अड्डे की यात्रा पर गए थे. अमरीका के सेना प्रमुख ने अफगानिस्तान के लिए और भी सैनिकों की मांग हाल ही में की थी और ब्रिटेन के सेनाध्यक्ष ने भी 'द संडे टेलीग्राफ' को दिए एक इंटरव्यू में कहा है कि और सैनिकों की तैनाती की मांग का वो समर्थन करते हैं. ब्रिटेन के सेनाध्यक्ष जनरल सर डेविड रिचर्ड्स ने कहा है कि अगर और भी सैनिक तैनात किए जाते हैं तो हम अपना तय किया गया उद्देश्य जल्द पूरा कर सकेंगे और इसमें कम सैनिक भी हताहत होंगे." जनरल सर डेविड रिचर्ड्स ने कहा, "हम मनोवैज्ञानिक युद्घ जीतने कि शुरुआत कर सकते हैं." 2001 से अबतक अफगानिस्तान में ब्रिटेन के कुल 219 सैनिक मारे गए हैं.