फ़ेसबुक पर लगे तिरंगा

भारतीय झंडा
Image caption फ़ार्मविल पर तिरंगे की मांग

सोशल नेटवर्किंग साइट फ़ेसबुक की एक लोकप्रिय वेबगेम फ़ार्मविल पर लगभग 20 हज़ार लोगों ने भारतीय झंडे को जगह देने की मांग की है.

फ़ेससबुक का सर्वाधिक लोकप्रिय खेल फ़ार्मविल है, जिसमें खिलाड़ी अपने खेत बनाते हैं, उसमें फ़सल उगाते हैं. और इसी बुवाई और फ़सल की कटाई के बीच खेत ख़रीदने वाले किसान अंक जमा करते हैं.

खिलाड़ी अपने खेतों की सीमाओं की पहचान के लिए वहां अपने राष्ट्रीय ध्वज लगाते हैं.

फ़ार्मविल के सैनफ्रांसिस्को स्थित डिवेल्पर ज़िंगा से फामर्विल के भारतीय खिलाड़ियों ने कहा है कि इस खेल के दीवानों मे लगभग साढ़े पांच करोड़ भारतीय हैं, इसलिए उन्हें अपने अपने खेतों पर अपने राष्ट्रीय झंडे लगाने का अधिकार मिलना चाहिए.

फ़िलहाल फ़ार्मविल खेल में हिस्सा लेने वाले कुछ ही देशों के खिलाड़ी अपने खेत में अपने देश का झंडा लगा सकते हैं. इनमें ब्रिटेन और अमरीका शामिल हैं.

जिंगा को भेजी गई इस आशय की याचिका पर लगभग 20 हज़ार तीन सौ लोगों ने अपने हस्ताक्षर किए हैं.

फ़ार्मविल के तीस लाख से ज़्यादा प्रशंसक तो भारत में ही रहते हैं लेकिन विदेशों में बसे भारतीय मूल के इससे भी ज़्यादा लोगों ने इस याचिका को अपना समर्थन दिया है.

इस मुद्दे पर हुए ऑनलाइन विचार विमर्श से कई ब्लॉग और फ़ोरम भरे पड़े हैं. एक व्यक्ति ने तो यहाँ तक लिखा कि भारत के झंडे को वे पैसे देकर ख़रीदने को भी तैयार हैं.

एक अन्य टिप्पणीकार ने लिखा है कि भारी संख्या में फ़ार्मविल पर आने वाले बेशुमार भारतीय खिलाड़ी ये जान कर निराश हो जाते हैं कि वे अपने खेत पर भारतीय झंडा नहीं लगा सकते.

फ़ार्मविल के भारतीय खिलाड़ियों से प्रेरित होकर अब कई अन्य देशों के खिलाड़ी भी अपने राष्ट्रीय झंडों की मांग करने लगे हैं.

फ़ार्मविल पर खेती करने वाले 'किसानों' का कहना है कि फ़ार्मविल पर आने वालों को इस खेल की ऐसी लत लगती है कि उससे छुटकारा पाना मुश्किल है.

ये भी बताया जाता है कि फ़ार्मविल इस समय फ़ेसबुक की लोकप्रियता को भी पछाड़ चुकी है. जून से शुरू हुए इस खेल में हर हफ़्ते औसतन फेसबुक के 10 लाख से ज्यादा सदस्य फ़ार्मविल की सदस्यता ले लेते है.

भारतीय झंडों की मांग का अभियान चला रहे कई संचालकों में से एक अंकुश देशपांडे कहते हैं कि फ़ार्मविल के आयोजक इस मांग की अनदेखी करके भारत का अपमान कर रहे हैं.

संबंधित समाचार