करज़ई ने चुनावी जाँच पर उठाए सवाल

करज़ई
Image caption करज़ई शुरुआती दौर में आगे चल रहे हैं

अफ़गानिस्तान के राष्ट्रपति हामिद करज़ई ने राष्ट्रपति चुनाव में धांधली की जांच पर चिंता ज़ाहिर की है.

एक अमरीकी समाचार चैनल को दिए गए साझात्कार में करज़ई ने कहा कि इन चुनावों में धांधली की जांच कर रहे चुनाव शिकायत आयोग से एक अफगान सदस्य का इस्तीफा़ उनके काम पर कई गंभीर सवाल खड़े करता है.

इस आयोग को संयुक्त राष्ट्र का समर्थन है.

साथ ही करज़ई ने ये भी माना की अगस्त में हुए राष्ट्रपति चुनाव में थोड़ी बहुत धांधली हुई है लेकिन कुल मिलाकर चुनाव निष्पक्ष हुए थे.

हालांकि प्राथमिक तौर पर जो मतगणना हुई है उसके मुताबिक वे आगे चल रहे है लेकिन धांधली की जांच कर रहे आयोग के परिणाम से दूसरे चरण का मतदान हो सकता है.

अगस्त में हुए राष्ट्रपति चुनाव को लेकर विवाद उस समय तूल पकड़ने लगा जब इस चुनाव में बड़े पैमाने पर धांधली के आरोप लगने लगे.

करज़ई के प्रतिद्वंद्वी माने जाने वाले अब्दुल्ला अब्दुल्ला के समर्थकों ने आरोप लगाया है कि चुनाव शिकायत आयोग के अफ़गानी समूह के सदस्य के अचानक इस्तीफ़े के पीछे करज़ई का हाथ है.

करज़ई ने ये साझात्कार चुनाव शिकायत आयोग के अफगान सदस्य मुस्तफ़ा बरकज़ई के इस्तीफ़े के एक दिन बाद दिया है.

ये आयोग अपनी जांच के परिणाम अगले हफ्ते बताएगा.

बाहरी दखलंदाज़ी

एबीसी नेटवर्क के गुड मॉर्निंग अमरीका को दिए साझात्कार में करज़ई ने कहा कि मैं ये नहीं कहूंगा की चुनाव शिकायत आयोग अवैध है. साथ ही उन्होंने कहा कि इस सदस्य के इस्तीफ़े ने आयोग के कामकाज पर संदेह पैदा किए है.

उनका कहना था, "मैं ये उम्मीद करता हूँ की अब इस संदेह को दूर करने के लिए आयोग जो भी कर सकता है वो करेगा, और अपनी साख पर लगे धब्बे को हटाएगा और अपनी निष्पक्षता साबित करेगा कि वो विदेशी एजेंसियों और सरकारों के आदेशों पर काम नहीं करता."

सुप्रीम कोर्ट के जज मुस्तफ़ा बरकज़ई ने ये आरोप लगाया है कि पैनल के कामकाज में विदेशी एजेंसियाँ दखलंदाज़ी कर रही थी और अफ़गान सदस्य कोई भी अहम फैसले नही ले पा रहे थे. संयुक्त राष्ट्र समर्थित इस आयोग के पांच सदस्यों में से दो अफ़गानिस्तान के है.

तो उधर अबदुल्ला अबदुल्ला के चुनाव प्रचार के उप प्रबंधक सालेह मोहम्मद रेगिस्तानी का कहना है कि बरकज़ई का इस्तीफ़ा राजनीति से प्रेरित है और इसका सीधा संबंध करजई से है.

राष्ट्रपति करज़ई का कहना है की ये चुनाव अफ़गानिस्तान के लोगो की जीत है और हमें इसे नहीं पलटना चाहिए.

संबंधित समाचार