फ़्रांसीसी वैज्ञानिक के ख़िलाफ़ आरोप तय

Image caption सर्न में महाप्रयोग चल रहा है

स्विटज़रलैंड में अंतरराष्ट्रीय परमाणु शोध संस्थान सर्न में काम करने वाले एक फ़्रांसीसी भौतिक विज्ञानी के ख़िलाफ़ चरमपंथी गुटों से संपर्क रखने का मुक़दमा दर्ज कर लिया गया है.

इस वैज्ञानिक के अल्जीरिया से पारिवारिक संबंध हैं. उन्हें गुरुवार को गिरफ़्तार किया गया था.

अधिकारियों का आशंका है कि यह व्यक्ति उत्तर अफ़्रीका में अल क़ायदा के किसी समूह से जुड़ा हुआ है.

ये व्यक्ति अल्जीरियाई मूल का है और स्विट्ज़रलैंड की सीमा पर स्थित यूरोपीय परमाणु शोध संस्थान सर्न की प्रयोगशाला में काम करता था.

हालांकि अधिकारियों का कहना है कि गिरफ़्तारी के बाद वैज्ञानिक के क़ब्ज़े से कोई घातक चीज़ नहीं मिली है और ना ही उन्होंने शोध संस्थान को नुकसान पहुँचाने की कोशिश की थी.

पुलिस का मानना है कि वैज्ञानिक और उनके भाई इंटरनेट पर अल क़ायदा इस्लामी मग़रीब नामक चरमपंथी गुट से संपर्क बनाए हुए थे और फ्रांस के भीतर हमलों की योजना बना रहे थे.

सर्न की इस प्रयोगशाला में हेड्रोन कोलाइडर नामक एक बड़ी मशीन की मदद से प्रकृति की उत्पत्ति के समय हुए बिग बैंग प्रभाव जैसी स्थितियाँ पैदा करने का प्रयोग किया जा रहा है.

सर्न स्विट्ज़रलैंड और फ्रांस की सीमा पर स्थित एक शोध संस्था है और इसमें कई सदस्य देशों के इंजीनियर काम करते हैं. यह संस्था परमाणु भौतिक शास्त्र से संबंधित शोध में लगी है.

सर्न का कहना है, "ये व्यक्ति सर्न का कर्मचारी नहीं था और एक बाहरी सहयोगी संस्थान के अंतरगत सर्न के लिए काम कर रहा था और उसका संबंध किसी ऐसी चीज़ से नहीं था जिसका प्रयोग आतंकवादी कामों के लिए किया जा सके.”

संबंधित समाचार