ओबामा ने मनाई दीवाली

ह्वाइट हाउस
Image caption ओबामा ने व्हाइट हाउस में मनाई दीवाली

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने व्हाइट हाउस में वैदिक मंत्रोच्चार के बीच दीप जलाकर दीवाली मनाई और लोगों को इस पर्व की शुभकामना दी.

व्हाइट हाउस में व्यक्तिगत तौर पर दीवीली मनाने वाले ओबामा अमरीका के पहले राष्ट्रपति बन गए.

व्हाइट हाउस के ईस्ट रूम में बुधवार को आयोजित एक कार्यक्रम ओबामा ने कहा, ‘‘मैं समझता हूं कि यह उपयुक्त समय है जब हम इस कार्य की शुरूआत छुट्टियों के समय दिवाली से कर रहे हैं, जो बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है और जिसे दुनिया के महानतम धर्मों में से एक के तमाम अनुयायी मनाते हैं.’’

यह पहली बार है जब किसी अमेरिकी राष्ट्रपति ने व्हाइट हाउस में दीवाली मनाई. और इस तरह से अमरीका में दीपों के इस त्योहार का जिसे दुनिया भर में करोड़ों हिंदुओं, जैनियों, सिखों और कुछ बौद्ध धर्मावलंबियों द्वारा मनाया जाता है, आधिकारिक सम्मान हुआ है.

ओबामा ने कहा, ‘‘आगामी शनिवार को यहां अमेरिका और दुनिया भर के हिंदू, जैन, सिख और कुछ बौद्ध धर्मावलंबी छुट्टियों के अवसर पर दिया यानी दीपक जलाकर दीवाली मनाएंगे जो अंधकार पर प्रकाश और अज्ञानता पर ज्ञान की जीत का प्रतीक है.’’

व्हाइट हाउस में आयोजित इस समारोह में भारतीय समुदाय के कई गणमान्य लोग उपस्थित थे. इस मौके पर ओबामा की कैबिनेट के क़रीब आधा दर्ज़न सदस्य और अमरीकी प्रशासन में शामिल कई भारतीय अमेरिकी सदस्य भी उपस्थित थे.

अमरीका के दौरे पर गए केंद्रीय वाणिज्य मंत्री आनंद शर्मा और अमरीका में भारत की राजदूत मीरा शंकर ने भी इस मौक़े की शोभा बढ़ाई.

दीप प्रज्ज्वलित करने से ठीक पहले श्री शिव विष्णु मंदिर के पंडित नारायण आचार्य दिगालाकोटे ने वैदिक मंत्रोच्चार किया.

इस मौक़े पर ओबामा ने कहा कि वैसे तो यह एक खुशी का मौक़ा है लेकिन साथ ही इस मौक़े पर हमें उन लोगों को भी याद करना चाहिए जो कम भाग्यशाली हैं. साथ ही हमें ज़रूरतमंद लोगों तक पहुंचने की अपनी प्रतिबद्धता को भी याद करना चाहिए.

इस मौक़े पर उपस्थित जन समुदाय को अपने चिर- परिचित अंदाज़ में संबोधित करते हुए ओबामा ने कहा, ‘मैं व्हाइट हाउस में दिया जलाकर बहुत ख़ुश महसूस कर रहा हूं और आप सभी को दीवाली की शुभकामना और साल मुबारक.’

ओबामा ने इस अवसर पर एशियन अमेरिकन एंड पैसिफिक आइलैंडर्स (एएपीआई) और व्हाइट हाउस के लिए सलाहकार आयोग को पुनर्गठित करने की भी घोषणा की जिसकी पहल पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने दस साल पहले की थी.

संबंधित समाचार