स्पेन में गर्भपात-विरोधी प्रदर्शन

  • 18 अक्तूबर 2009
मद्रिद में गर्भपात-विरोधी प्रदर्शन
Image caption मद्रिद में लाखों लोगों ने गर्भपात के विरोध में प्रदर्शन किया

स्पेन में ख़ुद की इच्छा से गर्भपात से कराने की सुविधा दिए जाने की सरकार की योजना के विरोध में शनिवार को दस लाख से भी ज़्यादा लोग राजधानी मैड्रिड की सड़कों पर प्रदर्शन के लिए उतरे.

इन लोगों की मांग है कि सरकार गर्भपात को लेकर देश के वर्तमान क़ानून को न बदले जिसमें किसी विशेष परिस्थिति में ही गर्भपात की अनुमति है.

स्पेन की समाजवादी सरकार इस क़ानून को बदलकर अब इसे 14 सप्ताह तक की गर्भवती महिलाओं को अपनी इच्छा से गर्भपात की अनुमति देने की योजना बना रही है.

इस क़ानून का सबसे विवादास्पद पहलू यह है कि इसके तहत सोलह-सत्रह साल तक की लड़कियाँ भी माँ-बाप की अनुमति के बिना भी गर्भपात करवा सकेंगीं.

प्रदर्शनकारियों में प्रो-लाइफ़ यानी जीवन-रक्षा के हितैषी लोगों में बूढे, जवान, माँ-बाप और बच्चों के अलावा पादरी, नन और आप्रवासी सभी शामिल हुए.

मैड्रिड के बीचो-बीच उन्होंने नीले रंग का एक विशालकाय बैनर लगाए जिसपर लिखा हुआ था, 'प्रत्येक जीवन उपयोगी है'. यह बैनर दो मंज़िल ऊँची इमारत के बराबर था.

प्रदर्शनकारियों में एक ने कहा, "गर्भपात एक सामाजिक भ्रष्टाचार है. हम इसका विरोध करते हैं. सरकार को जनता की राय लिए बिना यह क़ानून नहीं बनाना चाहिए."

स्पेन की समाजवादी सरकार का कहना है कि यह महिलाओं के अधिकार का सवाल है.

वर्तमान गर्भपात क़ानून का दुरुपयोग हो रहा है क्योंकि इसके अंतर्गत गर्भपात की इजाज़त तभी मिलती है जब गर्भवती महिला के मानसिक स्वास्थ्य को खतरा हो.

बीबीसी के स्पेन संवाददाता स्टीव किंगस्टोन का कहना है कि शनिवार की रैली के ज़रिये स्पेन के पारंपरिक कैथोलिक ईसाई समुदाय के लोग अपनी ताक़त दिखाना चाहते हैं ताकि स्पेन के सांसद भविष्य में अपने वोट-बैंक के डर से इस नए क़ानून को पारित होने से रोकें.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार