मध्यपूर्व में नया अमरीकी प्रयास

हिलेरी क्लिंटन और महमूद अब्बास
Image caption फ़लस्तीनी अधिकारियों का कहना है कि बातचीत का कोई नतीजा नहीं निकला है

मध्यपूर्व में शांति प्रक्रिया फिर से शुरु करने के लिए ओबामा प्रशासन ने नए सिरे से प्रयास शुरु किए गए हैं.

इस प्रयास के तहत अमरीकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने आबूधाबी में फ़लस्तीनी प्रशासन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास से मुलाक़ात की है.

इसके बाद वे यरुशलम की ओर रवाना हुई हैं जहाँ उनकी मुलाक़ात बेंजामिन नेतन्याहू से होनी है.

इन मुलाक़ातों से पहले हिलेरी क्लिंटन ने बीबीसी से कहा कि इसराइल और फ़लस्तीनियों के बीच शांति समझौता अमरीका के लिए प्राथमिकता की सूची में बना हुआ है.

उन्होंने कहा कि अमरीकी दो राष्ट्र के समझौते पर पहुँचना चाहता है.

हिलेरी क्लिंटन के आने से पहले इसराइली प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने कहा कि वे फ़लस्तिनियों के साथ शांतिवार्ता शुरु होने की उम्मीद कर रहे हैं.

हालांकि इसराइल पश्चिमी तट पर नई बसाहट का काम रोकने के लिए राज़ी नहीं है.

जबकि फ़लस्तीनियों की ओर से प्रमुख वार्ताकार साएब एराकात ने कहा है कि हिलेरी क्लिंटन से मुलाक़ात के दौरान महमूद अब्बास ने साफ़ कर दिया है कि फ़लस्तिनी तब तक शांति वार्ता फिर से शुरु करने के लिए तैयार नहीं हैं जब तक इसराइल पश्चिमी तट पर यहूदियों को बसाना बंद नहीं करता.

यरुशलम में बीबीसी संवाददाता टिम फ़्रैंक्स का कहना है कि अमरीका के यह कहने से कि नई बसाहट को रोकना ज़रुरी है, फ़लस्तीनियों के हौसले बुलंद हुए हैं.

संबंधित समाचार