'मुर्दा' ख़ुद चलकर घर आया

  • 5 नवंबर 2009
किसी का अंतिम संस्कार

ब्राज़ील में एक परिवार अपने एक सदस्य के अंतिम संस्कार की तैयारियाँ कर रहा था कि तभी एक करिश्मा हो गया.

इस परिवार के लिए यह किसी करिश्मे से कम नहीं था कि जब वे आदेमीर जॉर्ज गोन्काल्वेज़ की "मौत" के बाद उसके अंतिम संस्कार की तैयारियाँ कर रहे थे तो जॉर्ज ख़ुद ही सामने आ गए.

जॉर्ज पेशे से एक इमारती हैं जिसे ब्राज़ील में ब्रिक लेयर कहा जाता है यानी वो राजमिस्त्री का काम करते हैं.

जिस दिन इनके अंतिम संस्कार की तैयारियाँ की जा रही थीं उससे एक दिन पहले ही दक्षिणी पराना राज्य में एक कार दुर्घटना हुई थी जिसमें परिवार ने जॉर्ज की मृत के तौर पर शिनाख़्त की थी.

पुलिस ने ओ ग्लोबो नामक अख़बार को बताया कि परिवार को कार दुर्घटना के शिकार हुए लोगों की शिनाख़्त करने में कुछ मुश्किल हुई थी क्योंकि उनके शव क्षत-विक्षत हो गए थे.

जाँच में पता चला था कि जॉर्ज ने कार दुर्घटना वाले दिन से पहले वाली रात अपने दोस्तों के साथ बैठकर शराब पी थी और शराब पीने का यह सिलसिला देर रात तक जारी रहा था.

जॉर्ज की भतीजी रोज़ा सैम्पालो ने बताया कि जॉर्ज को अपने अंतिम संस्कार के बारे में तब तक कोई पता नहीं था जब तक उन्होंने वापिस लौटकर नहीं देखा कि परिवार के लोग यह सब करने जा रहे हैं.

रोज़ा ने कहा कि कुछ जॉर्ज की माँ और कुछ अन्य परिजनों को शव की शिनाख़्त करते समय कुछ संदेह अवश्य था कि यह शक्ल पूरी तरह जॉर्ज से नहीं मिल रही है लेकिन एक मौसी और चार अन्य मित्रों ने शव की शिनाख़्त जॉर्ज के रूप में ही कर ली थी.

रोज़ा ने अख़बार से कहा, "हम इसमें कर भी क्या सकते थे. हम तो अंतिम संस्कार की तैयारियाँ करने लगे थे कि इतने में ही जॉर्ज ने प्रकट होकर सबका दिल ख़ुश कर दिया."

एक पुलिस प्रवक्ता ने इस सुखद घटनाक्रम का स्वागत करते हुए कहा है, "एक 'मुर्दा' ख़ुद ही अपनी चिता तक चलकर आ गया जिसने सबको चौंका दिया और परिवार के लिए यह वाक़ई एक बेहद सुखद क्षण था."

जिस शव को जॉर्ज का समझकर अंतिम संस्कार किया जा रहा था, बाद में उसकी सही रूप में शिनाख़्त की गई और उसे एक अन्य राज्य में दफ़ना दिया गया.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए