पाक सेना का लड्ढा शहर पर क़ब्ज़ा

  • 6 नवंबर 2009
पाकिस्तानी सैनिक
Image caption दक्षिणी वज़ीरिस्तान में चरमपंथियों के ख़िलाफ़ अभियान पर पाकिस्तानी सैनिक

पाकिस्तानी सेना ने दक्षिणी वज़ीरिस्तान में तालेबान चरमरंथियों के ख़िलाफ जारी अपने अभियान के दौरान एक और मह्त्वपूर्ण शहर लड्ढा पर क़ब्ज़ा कर लिया है.

सेना के मुताबिक़ ताज़ा झड़पों में 5 सैनिकों सहित 28 चरमपंथी मारे गए हैं.

सेना ने दक्षिणी वज़ीरिस्तान के कबायली इलाक़ों में तालेबान चरमपंथियों के ख़िलाफ़ ये अभियान 17 अक्तूबर को शुरू किया था.

लड्ढा शहर पर क़ब्ज़े के सेना के इस दावे की स्वतंत्र सूत्रों से पुष्टि नहीं हो पाई है, क्योंकि संघर्षरत इलाके में पत्रकारों की आवाजाही पर पाबंदी है. सेना की ओर से आयोजित दौरे के साथ ही पत्रकारों को वहां जाने का मौक़ा मिल पाता है.

इस्लामाबाद से बीबीसी संवाददाता सैयद शोएब हसन के मुताबिक़ ऐसा लगता है कि दक्षिणी वज़ीरिस्तान में चरमपंथियों के ख़िलाफ़ जारी अभियान में सेना को काफ़ी बढ़त मिली है.

सेना का ये कहना है कि इलाक़े में तीन तरफ़ से उसकी बढ़त जारी है और लड्ढा के अलावा चरमपंथियों के क़ब्ज़े से मकीन गांव को भी छुड़ा लिया गया है.

क़ब्ज़ा

उधर एक स्थानीय अधिकारी ने बीबीसी को बताया, "सेना ने कानीगुरम और साम शहरों पर भी क़ब्ज़ा कर लिया है. ज़मीनी सेना टैंकों के साथ लड्ढा के सब डिवीज़न की ओर बढ़ रही है."

अधिकारी ने ये भी बताया कि कानीगुरम पर सेना का पूरा क़ब्ज़ा है और अब आसपास के इलाक़ों से बारूदी सुरंगों को नष्ट करने का काम किया जा रहा है.

कानीगुरम और मकीन के बीच पड़ने वाला पहाड़ी शहर लड्ढा आबादी के लिहाज़ से दक्षिणी वज़ीरिस्तान का सबसे बड़ा सब डिविज़न है, जहाँ तालेबान चरमपंथियों ने कई ठिकाने बना रखे थे.

तालेबान ने लड्ढा के सभी रास्तों को अवरुद्ध करके सेना की सप्लाई के सभी रास्ते बंद कर दिए थे.

ताज़ा लड़ाई उसी इलाक़े मे चल रही है, जहाँ पाकिस्तानी तालेबान के प्रमुख बैतुल्ला महसूद एक अमरीकी ड्रोन हमले में मारे गए थे.

संबंधित समाचार