गर्भवती महिला के हत्यारे को उम्र क़ैद

  • 11 नवंबर 2009
Image caption मरवा शरबीनी के हत्यारे को आजन्म कारावास का दंड मिला

जर्मनी में उस व्यक्ति को उम्र क़ैद की सज़ा दी गई है जिसने एक अदालत के भीतर एक गर्भवती महिला की हत्या कर दी थी.

ड्रेस्डेन की अदालत ने फ़ैसला सुनाते हुए कहा कि ऐलेक्ज़ैंडर वेन्स जल्दी रिहाई के हक़दार नहीं होंगे.

रूस में जन्मे जर्मन नागरिक वेन्स ने जुलाई में एक अदालत में चल रही सुनवाई के दौरान मरवा शरबीनी की छुरा मार कर हत्या कर दी थी. शरबीनी मिस्र की रहने वाली थी.

समूचे मुस्लिम जगत में इस पर कड़ी प्रतिक्रिया हुई थी.

कड़े सुरक्षा बंदोबस्त के बीच चले मुक़दमे में वेन्स ने कहा कि उसने हत्या का इरादा नहीं किया था.

लेकिन अभियोग पक्ष ने ज़ोर देकर कहा कि उसका क़दम ‘ग़ैर यूरोपीय लोगों और मुसलमानों के प्रति घृणा’ से प्रेरित था.

झूले पर झगड़ा

यह मामला 2008 में खेल के मैदान में छिड़ी एक बहस से शुरु हुआ था.

मरवा शरबीनी ने झूले पर बैठे वेन्स से कहा कि उसके बच्चे को झूलने दे. लेकिन उसने साफ़ इनकार कर दिया और ऊपर से उसे नस्ली गालियां दीं.

मरवा ने मान हानि का दावा ठोका तो अदालत ने वेन्स पर 780 यूरो का जुर्माना कर दिया.

लेकिन इस साल जुलाई में वेन्स ने अदालत के फ़ैसले के ख़िलाफ़ अपील की और जब वह सुनवाई के लिए अदालत पहुंचा तो साथ में 7 इंच का चाकू भी छिपा कर ले गया. उसी चाकू से उसने मरवा पर 16 वार किए.

मरवा के पति ने उसे बचाने की कोशिश की तो वेन्स ने उसे भी घायल कर दिया.

मरवा ने अपने पति और तीन साल के बेटे के सामने प्राण त्याग दिए.

कई मुसलिम नेताओं ने जर्मनी पर इसलाम विरोधी होने के आरोप लगाए. उन्होने कहा कि जर्मनी ने इस हमले की भरपूर भर्त्सना नहीं की.

जब मरवा को मिस्र में दफ़नाया गया तो हज़ारों लोगों ने जर्मनी मुर्दाबाद के नारे लगाए और ईरान में व्यापक विरोध प्रदर्शन हुए.

पश्चिमी यूरोप में मुसलमानों की दूसरी सबसे बड़ी आबादी जर्मनी में रहती है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार