ब्रितानी नागरिक को मिली मौत

  • 29 दिसंबर 2009
अक़मल शेख़
Image caption अक़मल शेख़ ने आरोपों का खंडन किया था कहा था कि उन्हें बेवकूफ़ बनाया गया

मादक सामग्री की तस्करी के दोषी पाए गए एक ब्रितानी नागरिक को चीन में ज़हरीले पदार्थ का इंजेक्शन देकर मौत की सज़ा दी गई है.

ब्रितानी सरकार और इस व्यक्ति के परिजनों ने कहा था कि ये व्यक्ति अकमल शेख़ मानसिक रोग से ग्रस्त हैं और उन्होंने कई बार चीन की सरकार से इस मामले में रियायत बरतने का अनुरोध किया था लेकिन उनकी एक न चली.

माना जा रहा है कि चीन में पिछले 50 साल में पहली बार किसी यूरोपीय नागरिक को मौत की सज़ा मिली है.

शेख़ को मौत की सज़ा दिए जाने की घोषणा के बाद ब्रितानी प्रधानमंत्री गॉर्डन ब्राउन ने कहा कि निराश हैं कि बार बार मिलने और दया के अनुरोध के बावजूद उनकी बात सुनी नहीं गई है.

उनका कहना था कि उनकी चिंता ये है शेख़ की मानसिक स्थिति के बारे कोई स्वास्थ्य आकलन नहीं किया गया है.

राजनयिक भी मौजूद नहीं

अकमल शेख़ 53 वर्ष के थे और उन्हें 2007 में चार किलो हेरोइन एक बैग में लाते हुए गिरफ़्तार किया गया था.

उन्होंने अपनी सफ़ाई में बार बार कहा था कि उन्हें बेवकूफ़ बनाया है और वह बैग उनका था ही नहीं.

लेकिन कई बार की गई उनकी अपील को ख़ारिज कर दिया गया और चीन के सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें सज़ा दिए जाने से कुछ ही देर पहले मौत की सज़ा के फ़ैसले पर अपनी मुहर लगा दी.

बीबीसी संवाददाता क्रिस हॉग का कहना है कि ये सुनिश्चित नहीं किया जा सकता कि शेख़ के आख़िरी क्षण कैसे बीते.

जिन ब्रितानी राजनयिकों ने सज़ा दिए जाने के दौरान ख़ुद मौजूद रहने का अनुरोध किया था, उनको इसकी इजाज़त नहीं दी गई.

संबंधित समाचार