फ़्रांस ने भी अपना दूतावास बंद किया

यमन स्थित फ़्रांसीसी दूतावास
Image caption अल क़ायदा से ख़तरों के कारण यह फ़ैसला हुआ है

अल क़ायदा से ख़तरे को देखते हुए अमरीका और ब्रिटेन के बाद फ़्रांस ने भी यमन स्थित अपने दूतावास को बंद कर दिया है.

पेरिस में फ़्रांसीसी विदेश मंत्रालय ने इसकी घोषणा की है. रविवार को अमरीका और ब्रिटेन ने भी यमन स्थित अपने-अपने दूतावास बंद कर दिए थे.

फ़्रांसीसी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता बर्नार्ड वलेरो ने पत्रकारों को बताया कि यमन स्थिति उनके दूतावास ने एक दिन पहले ही यह फ़ैसला कर लिया था कि दूतावास में लोगों की आवाजाही निलंबित रखी जाएगी.

उन्होंने यमन में मौजूद फ़्रांसीसी नागरिकों से अपील की कि वे अपनी गतिविधि सीमित रखें और चौकस रहें.

इस बीच ब्रितानी अधिकारियों ने इससे इनकार किया है कि इस फ़ैसले के पीछे यमनी सुरक्षा बल के हथियारों से भरे छह ट्रक का ग़ायब होना है.

दावा

पिछले दिनों अल क़ायदा ने यह कहा था कि क्रिसमस के दिन अमरीकी विमान को उड़ाने की कथित साज़िश के पीछे उसका हाथ था.

अल क़ायदा ने पश्चिमी देशों के दूतावासों पर हमले की अपील भी की थी.

अमरीकी ने इन ख़तरों को देखते हुए अपने यहाँ हवाई सुरक्षा जाँच और कड़ी कर दी है और नए नियम सोमवार से लागू भी हो गए हैं.

हवाई अड्डे के कर्मचारी अब 14 देशों से आने वाले या इन देशों से होकर आने वाले यात्रियों की विशेष जाँच करेंगे. इनमें संपूर्ण शारीरिक जाँच भी शामिल है.

इन देशों में वो देश भी शामिल हैं, जिन्हें अमरीका आतंकवाद की शरणस्थली मानता है. ये देश हैं- क्यूबा, ईरान, सूडान और सीरिया. यमन और नाइजीरिया से आने वाले यात्रियों पर भी ये नियम लागू होगा.

संबंधित समाचार