पाकिस्तानी जहाज़ पर थे सोमाली लुटेरे

  • 5 जनवरी 2010
सोमाली लुटेरे
Image caption सोमाली लुटेरे बड़े जहाज़ों से छोटी नौकाओं से आकर दूसरे जहा़ज़ों पर धावा बोला करते हैं

सोमाली समुद्री लुटेरों ने एक पाकिस्तानी जहाज़ को छोड़ दिया है.

शाहबेग नामक इस जहाज़ का लुटेरों ने समुद्र में अपने अड्डे की तरह उपयोग किया और इसी जहाज़ से उन्होंने छोटी नौकाएँ लेकर ब्रिटिश जहाज़ 'एशियन ग्लोरी' का अपहरण किया.

लुटेरों ने इस नौका को सेशेल्स द्वीप से एक हज़ार मील उत्तर में समुद्र में छोड़ दिया था जहाँ यूरोपीय संघ के नौसैनिकों ने इसे देखा.

'एशियन ग्लोरी' जहाज़ अभी तक सोमाली लुटेरों के कब्ज़े में है जिससे सिंगापुर से मोटर गाड़ियाँ सउदी अरब भेजी जा रही थीं.

कुल 14 जहाज़ अभी सोमाली समुद्री लुटेरों के कब्ज़े में हैं और उन्होंने फिरौती के लिए कम से कम 300 लोगों को बंधक बनाया हुआ है.

पाकिस्तानी नौका

सोमाली समुद्री लुटेरों ने पाकिस्तानी जहाज़ 'शाहबेग' का चालक दल के 29 सदस्यों के साथ दिसंबर में अपहरण किया था.

लुटेरों ने हॉर्न ऑफ़ अफ़्रीका के पास स्थित सोकोट्रा नामक द्वीप से 370 किलोमीटर दूर 'शाहबेग' का अपहरण किया था.

यूरोपीय संघ की नौसेना की ओर से एक बयान में कहा गया है – "शाहबेग पर फ़्रांस के नौसैनिक चढ़े और उन्होंने पाया कि चालक दल के सभी सदस्यों की सेहत अच्छी है, केवल एक सदस्य था जिसकी टाँग टूटी हुई थी."

प्रेक्षकों के अनुसार अक्सर समुद्री लुटेरे इस तरह से किसी एक जहाज़ को अड्डा बनाकर उस पर से अपनी छोटी नौकाएँ चलाकर लूट-पाट करते हैं.

मगर ये अपने तरह की पहली घटना है जिसमें लुटेरों ने किसी अपहृत जहाज़ को ही अड्डा बनाकर दूसरे जहाज़ों का अपहरण किया हो.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार