डेट्रॉयट मामले में 'अपराध अस्वीकार'

उमर फ़ारुक़ अब्दुलमुतल्लिब
Image caption अब्दुलमुतल्लिब के बारे में अमरीकी ख़ुफ़िया तंत्र को पहले से ही सूचना थी

अमरीका की एक अदालत में उस नाइजीरियाई युवक उमर फ़ारुक़ अब्दुलमुत्तलिब को पहली बार अदालत में पेश किया गया है, जिस पर एक अमरीकी विमान को उड़ाने की कोशिश का आरोप है. वहाँ उसने कहा है कि वह बेकसूर है.

डेट्रॉयट की अदालत में 23 वर्षीय अब्दुलमुत्तलिब को पेश किए जाने के बाद कार्यवाही पाँच मिनट ही चली.

उन्होंने अदालत से कहा कि वे अपने ऊपर लगाए गए आरोपों को समझते हैं.

उल्लेखनीय है कि अदालत ने उनके ख़िलाफ़ 290 लोगों की हत्या के प्रयास सहित छह आरोप तय किए हैं.

सफ़ेद शर्ट और ख़ाकी पेंट में अदालत में पहुँचे अब्दुलमुत्तलिब धीमी चाल से अदालत में पहुँचे.

अदालत ने पहले उनसे उनके नाम की पुष्टि की. उनकी आवाज़ इतनी धीमी थी कि न्यायाधीश को ऊँची आवाज़ में बोलने के निर्देश देने पड़े.

आरोप

इस युवक को क्रिसमस के दिन एक विमान में विस्फोट करने की कोशिश करने के बाद गिरफ़्तार किया गया था. विस्फोट नाकाम रहा था इसके बाद उन पर क़ाबू पा लिया गया था.

यह विमान नीदरलैंड्स के एम्सटर्डम से अमरीका के डेट्रॉयट आ रहा था.

उस विमान में चालक दल के सदस्यों के अलावा 279 यात्री सवार थे.

अब्दुलमुत्तलिब पर आरोप है कि उसने अपने कपड़ों में दो तरह के विस्फोटक छिपा रखे थे और उन्हें मिलाकर वह विस्फोट करना चाहता था.

विस्फोट करने की कोशिश में उसने अपने आपको घायल कर लिया था.

अदालत ने जो छह आरोप तय किए हैं, उनमें एक बडी़ संख्या में लोगों की जान लेने वाले हथियार के उपयोग की कोशिश, विमान में हत्या का प्रयास, जानबूझकर विमान को नुक़सान पहुँचाने का प्रयास, विमान के पास ऐसे विनाशकारी उपकरण को रखना जिससे विमान की सुरक्षा को ख़तरा हो और अपने साथ बम जैसा ज्वलनशील पदार्थ रखना.

उल्लेखनीय है कि राष्ट्रपति बराक ओबामा ने स्वीकार किया है कि इस मामले में ख़ुफ़िया और सुरक्षा एजेंसियों से चूक हुई है.

इसके बाद अमरीका में सुरक्षा के कई क़दम उठाने की घोषणा की गई है.

संबंधित समाचार