हेती में 'अकल्पनीय' नुक़सान, हज़ारों के मरने की आशंका

Image caption हेती के राष्ट्रपति का कहना है कि भूकंप से अकल्पनीय नुक़सान हुआ है

कैरेबियाई देश हेती के राष्ट्रपति रेने प्रेवाल का कहना है कि भूकंप से उनके देश में 'अकल्पनीय' नुक़सान हुआ है. दूसरी ओर हेती के प्रधानमंत्री जीन मैक्स बेलेरिवे ने भूकंप से कम से कम एक लाख लोगों के मरने की आशंका जताई है.

राष्ट्रपति प्रेवाल ने एक अमरीकी अख़बार को दिए इंटरव्यू में कहा,"संसद ध्वस्त हो गई है. टैक्स कार्यालय बर्बाद हो गया है. स्कूल, अस्पताल सब गिर गए हैं. कई स्कूलों में लोग दबे पड़े हैं."

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख बान कि मून ने कहा है कि हेती में संगठन के प्रमुख और उप प्रमुख समेत स्टाफ के क़रीब 100 लोगों का पता नहीं चल पाया है.

पिछली दो सदियों में हेती में आए इस सबसे भयंकर भूंकप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर सात मापी गई और इसका केंद्र देश की राजधानी पोर्ट ओ प्रिंस से मात्र 15 किलोमीटर दूर था.

सहायता

रेड क्रास के अनुसार इस त्रासदी में कम से कम 30 लाख लोग प्रभावित हुए हैं और राजधानी के रोमन कैथोलिक चर्च के आर्चबिशप की भी मौत हो गई है.

घटना के बाद अमरीका समेत कई देशों ने हेती के लिए मदद भेज रहे हैं.

वाशिंगटन में अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा कि ये एक क्रूर त्रासदी है और ऐसे मौके पर वो हेती को अपना पूरा समर्थन देंगे.

ओबामा के अनुसार अमरीकी राहत टीमें हेती पहुंच रही हैं.

भूकंप का केंद्र राजधानी से बहुत दूर नहीं था और इसके कुछ ही देर बाद 5.9 और 5.5 की तीव्रता के झटके भी महसूस किए गए.

संवाददाताओं का कहना है कि हेती में पूरी तबाही का सही-सही अनुमान लगाना कठिन हो रहा है क्योंकि संचार के माध्यम भी ठप पड़ गए हैं.

भारी तबाही

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि मंगलवार की शाम को आए भूकंप के बाद वहाँ अफ़रातफ़री का माहौल था और आसमान में धूल दिखाई दे रही थी और चीख़ने-चिल्लाने की आवाज़ें आ रही थीं.

उत्तर अमरीकी महाद्वीप के कैरीबियाई क्षेत्र का एक छोटा सा देश है और वह दुनिया के ग़रीबतम देशों में से एक है.

वह अभी भी एक साल पहले आए तूफ़ान से उबरने की कोशिश कर रहा है.

फ़्रांस और वेनेज़ुएला ने भी सहायता भेजने की घोषणा की है. इंटर-अमरीकन डेवलपमेंट बैंक ने हेती को तुरंत दो लाख डॉलर की सहायता देने की घोषणा की है.

भूकंप से हुए जानमाल के नुकसान के बारे में जानकारी इकट्ठा की जा रही है. अमरीका हेती और दूसरे देशों को पूरी मदद दे रहा है.

संबंधित समाचार