अमरीकी वोटर गुस्सा हैं और निराश भी: ओबामा

ओबामा

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने पद संभालने के एक साल पूरा होने के मौक़े पर माना है कि अमरीकी वोटर गुस्सा और नाराज़ है. उन्होंने संकेत दिए हैं कि वे असंतोष की इन आवाज़ों पर ध्यान देंगे.

ग़ौरतलब है कि उनका ये कथन सीनेट में मैसाचुसेट्स से रिपब्लिकन पार्टी की जीत के एक दिन बाद आया है. उन्होंने ये भी कहा है कि डेमोक्रेटिक पार्टी को कांग्रेस में स्वास्थ्य विधेयक जल्दबाज़ी में पारित करवाने की कोशिश नहीं करनी चाहिए.

अमरीकी टीवी चैनल एबीसी नेटवर्क को दिए इंटरव्यू में ओबामा ने कहा, "जिस तरह (रिपब्लिकन) स्कॉट ब्राउन जीते हैं, मैं भी उसी तरह जीता था. लोग गुस्से में हैं और निराश हैं. ये केवल पिछले एक या दो साल में जो हुआ है उसके कारण नहीं बल्कि पिछले आठ साल क्या हुआ है उसके कारण है."

मैसाचुसेट्स से जीते स्कॉट ब्राउन ने पाँच दशक तक प्रांत के प्रतिनिधि रहे डेमोक्रेटिक पार्टी के एड्वर्ड केनेडी की जगह ली है जिनका पिछले साल देहांत हो गया था.

इसके बाद रिपब्लिकन पार्टी के सीनेट में 41 प्रतिनिधि हो गए हैं और वे स्वास्थ्य क्षेत्र से संबंधित विधेयक को रोक सकते है या डेमोक्रेटिक पार्टी को उसमें बदलाव लाने के लिए मजबूर कर सकते हैं.

'जनमत संग्रह नहीं'

राष्ट्रपति ओबामा का कहना है कि स्वास्थ्य क्षेत्र संबंधित विधेयक पर मतदान तब होना चाहिए जब स्कॉट ब्राउन शपथ ले लें और डेमोक्रेटिक पार्टी को इस विधेयक पर आम राय बनाने की कोशिश करनी चाहिए.

बीबीसी संवाददाता पॉल एडम्स का कहना है, "ये डेमोक्रेटिक पार्टी के लिए अहंकार तोड़ने वाली हार है जिससे उनका 60 सीटों का बहुमत ख़त्म हो गया है."

पॉल एड्म्स का कहना है, "ये राष्ट्रपति ओबामा के सत्ता संभालने के एक साल के मौक़े पर एक अप्रिय तोहफ़ा है. ये कई सालों में सबसे बड़ी राजनीतिक उथल-पुथल है क्योंकि डेमोक्रेटिक पार्टी के एड्वर्ड केनेडी ने इस प्रांत का लगभग 50 साल तक प्रतिनिधित्व किया था."

उधर स्कॉट ब्राउन ने एनबीसी टु़डे को बताया कि वे नहीं मानते कि यह राष्ट्रपति ओबामा के एक साल के कार्यकाल पर जनमत संग्रह है.

वे गुरुवार को अपना कार्यभार संभालेंगे.

दूसरी ओर राष्ट्रपति ओबामा के एक वरिष्ठ सलाहकार ने माना है कि राष्ट्रपति कार्यालय को स्वास्थ्य क्षेत्र के सुधार विधेयक पर अब अपनी रणनीति के बारे में पुनर्विचार करना होगा.

लेकिन सलाहकार डेविड एक्सलरॉड ने ज़ोर देकर कहा कि राष्ट्रपति ओबामा अपने एजेंडा पर कायम रहेंगे.

संबंधित समाचार