इसराइल ने दो अफ़सरों पर कार्रवाई की

गज़ा में कार्रवाई
Image caption ग़ज़ा में इसराइली कार्रवाई के दौरान 1100 से अधिक फ़िलीस्तीनी मारे गए थे

इसराइल सरकार की एक रिपोर्ट में ये उजागर हुआ है कि उसने पिछले साल गज़ा में चढ़ाई के दौरान सफ़ेद फ़ॉस्फ़ोरस का प्रयोग करने के मामले में दो वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई की है.

इसराइल ने संयुक्त राष्ट्र को भेजी गई एक रिपोर्ट में ये जानकारी दी है लेकिन साथ ही कहा है कि इस कार्रवाई के दौरान युद्ध अपराध होने के कोई प्रमाण नहीं मिले हैं.

गज़ा में हुई सैन्य कार्रवाई के बारे में संयुक्त राष्ट्र ने एक जाँच की थी और उसके जवाब में इसराइल ने अब संयुक्त राष्ट्र के पास अपनी रिपोर्ट भेजी है.

संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट में कहा गया था कि इसराइल और फ़लीस्तीनी गुट हमास- दोनों ही ने गज़ा में 22 दिनों तक चली कार्रवाई के दौरान युद्ध अपराध किए थे.

इसराइल ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि जिन दो अधिकारियों के ख़िलाफ़ अनुशासनात्मक कार्रवाई की गई है उनमें एक ब्रिगेडियर जनरल और एक कर्नल है.

मगर उसने ये स्पष्ट नहीं किया है कि अधिकारियों को क्या सज़ा दी गई है.

सफ़ेद फ़ॉस्फ़ोरस का लड़ाई में इस्तेमाल अवैध नहीं है और इसका इस्तेमाल सेनाएँ धुएँ का पर्दा बनाने के लिए करती हैं. मगर रिहायशी इलाक़ों में इनका इस्तेमाल वर्जित है.

मामला

इसराइल ने वर्ष 2008 के दिसंबर में गज़ा में सैन्य कार्रवाई की थी जो 22 दिन तक चली और उसमें 1100 से अधिक गज़ावासी मारे गए.

ऑपरेशन कास्ट लीड नामक इस सैन्य कार्रवाई के दौरान इसराइल के 13 नागरिक मारे गए जिनमें तीन आम नागरिक थे.

इसराइल का कहना था उसकी कार्रवाई का उद्देश्य दक्षिणी इसराइल के इलाक़ों में फ़लीस्तीनी रॉकेट हमलों को बंद करना है.

कार्रवाई के दौरान मीडिया ने 15 जनवरी 2009 को गज़ा स्थित संयुक्त राष्ट्र कार्यालय के परिसर में ज्वलनशील गोले गिराने की तस्वीरें प्रसारित कीं जहाँ उनसे आग लग गई.

इसके बाद संयुक्त राष्ट्र और दूसरे अंतरराष्ट्रीय संगठनों ने इसराइल पर आरोप लगाया कि उन्होंने लड़ाई के दौरान सफ़ेद फ़ॉस्फ़ोरस का इस्तेमाल कर आम लोगों का जीवन ख़तरे में डाला.

अब इसराइल ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है,"नियमों की अवहेलना करते हुए रिहायशी इलाक़ों के आस-पास बहुत सारे गोलों का इस्तेमाल किया गया."

बीबीसी के मध्य पूर्व संवाददाता का कहना है कि इसराइल ने पिछले सप्ताह शुक्रवार को सौंपी रिपोर्ट में पहली बार सैन्य कार्रवाई के दौरान फ़ॉस्फ़ोरस का इस्तेमाल करने की बात स्वीकार की है.

संबंधित समाचार

संबंधित इंटरनेट लिंक

बीबीसी बाहरी इंटरनेट साइट की सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है