अवैध संतान के लिए ज़ूमा ने मांगी माफ़ी

  • 7 फरवरी 2010
ज़ुमा
Image caption जेकब ज़ुमा दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति हैं

दक्षिण अफ़्रीका के राष्ट्रपति जैकब ज़ूमा ने उस महिला से संतान पैदा करने के लिए माफ़ी मांगी है जिससे उन्होंने शादी नहीं की थी.

इस बात के लिए ज़ूमा की देश भर में निंदा हो रही थी. विपक्षी दलों ने एक साथ कई महिलाओं के साथ संबंध बनाने पर ज़ूमा की खिंचाई की है और कहा है कि इससे एड्स के प्रति जागरुकता को धक्का पहुँचेगा.

हालाँकि अफ़्रीकी नेशनल कांग्रेस ने राष्ट्रपति का बचाव किया है और कहा है कि उन्होंने किसी क़ानून का उल्लंघऩ नहीं किया.

एक वक्तव्य में उन्होंने कहा है,"मुझे इस बात के लिए अफ़सोस है और ख़ास तौर पर मैंने जो दुख अपने परिवार और अपनी पार्टी अफ़्रीकी नेशनल कांग्रेस को पहुँचाया है, उसका मुझे बेहद खेद है."

उन्होंने कहा कि वह परिवार को एक संस्था के रूप में देखते आए हैं और इसमें उनका विश्वास कायम है.

ज़ूमा ज़ुलू जनजाति की परंपरा को मानने वाले हैं.

ज़ुलू बहुपत्नि प्रथा में विश्वास रखते हैं और ज़ूमा की तीन पत्नियां हैं.

जिस बच्चे को जन्म देने के लिए ज़ूमा ने अब माफ़ी मांगी है, वो ज़ूमा की बीसवीं संतान है.

इस हफ़्ते की शुरुआत में ज़ूमा ने इस बात की पुष्टि की थी कि विश्व कप के एक अधिकारी की बेटी,39 साल की सोनोनो खोज़ा के साथ उनके संबंध हैं.

उन्होंने कहा था कि ये उनका बेहद ही निजी मामला है.

एड्स के ख़िलाफ़ मुहिम को धक्का

दक्षिण अफ्रीका में ज़ूमा के विपक्षी और अखबारों ने ज़ुमा पर आरोप लगाया है कि कई महिलाओं के साथ असुरक्षित यौन संबंध बनाकर वो एड्स के खिलाफ लडाई में एक ख़राब उदाहरण पेश कर रहे हैं.

पिछले साल जैकब ज़ूमा ने देश कि एड्स नीति में बदलाव किए थे जिसके लिए उनकी सराहना हुई थी. दक्षिण अफ्रीका में दुनिया भर में सबसे ज्यादा एड्स ग्रसित लोग रहते हैं. उनकी संख्या पचास लाख से ज़्यादा है.

ये पहला मौका नहीं है जब जैकब ज़ूमा के यौन संबंधों पर सार्वजनिक चर्चा हुई हो.

2006 में जब वो बलात्कार के आरोप से बरी हो रहे थे तब भी उन्होंने माना था कि एक एड्स पीड़ित महिला के साथ असुरक्षित यौन संबंध बनाकर उनसे ग़लती हुई है.

संबंधित समाचार