क्रांति की सालगिरह पर शक्ति परीक्षण

  • 11 फरवरी 2010
ईरान
Image caption ईरान में बड़ी संख्या में लोगों के सड़कों पर उतरने की संभावना है

ईरान में इस्लामिक क्रांति की 31वीं सालगिरह पर सरकार और विपक्ष दोनों अपनी शक्ति का प्रदर्शन करने को तैयार हैं.

दोनों ने अपने-अपने समर्थकों से अपील की है कि इस मौक़े पर वे बड़ी संख्या में इकट्ठा हों. ईरान की राजनीति में इस दिन को काफ़ी अहमियत दी जाती है.

माना जा रहा है कि पिछले साल जून में हुए विवादित राष्ट्रपति चुनाव के बाद यह सरकार और विपक्ष के बीच टकराव की एक और स्थिति है.

ये भी आशंका जताई जा रही है कि कहीं इस मौक़े पर हिंसा न भड़क जाए.

चेतावनी

हालाँकि सरकार ने चेतावनी दी है कि विरोध प्रदर्शनों से कड़ाई से निपटा जाएगा. हाल के दिनों में ईरान में बड़ी संख्या में गिरफ़्तारियाँ हुई हैं.

अटकलें ये भी लगाई जा रही हैं कि ईरान के अधिकारी इंटरनेट के इस्तेमाल को सीमित कर सकते हैं.

बीबीसी संवाददाता जॉन लाइन का कहना है कि सरकार और विपक्ष ने इस मौक़े को शक्ति परीक्षण के लिए चुना है.

सरकारी नेताओं ने अपने समर्थकों से बाहर निकलने की अपील की है. साथ ही उन्होंने यह चेतावनी भी दी है कि इस दौरान अगर कोई सरकार विरोधी प्रदर्शनों में शामिल हुआ, तो उसे इसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे.

लेकिन विपक्षी नेता भी पीछे नहीं हैं और अपने समर्थकों से सड़क पर उतरने की ज़ोरदार अपील कर रहे हैं.

संबंधित समाचार