टीवी पर कही जान लेने की बात

  • 16 फरवरी 2010
Image caption रे गोसलिंग ने कहा है कि उन्होंने अपने प्रेमी से वादा किया था कि उसे कष्ट से छुटकारा दिलवाएंगे.

ब्रिटेन की पुलिस एक टीवी प्रज़ेंटर के उस बयान की जांच कर रही है जिसमें उन्होंने गंभीर रूप से बीमार अपने प्रेमी को जान से मारने की बात कुबूल की है.

सत्तर-वर्षीय रे गोसलिंग ने बीबीसी के इनसाईड आउट प्रोग्राम में कहा है कि एड्स की बीमारी से ग्रस्त अपने प्रेमी को उन्होंने ख़ुद ही मार डाला.

केयर नॉट किलिंग नामक संगठन ने बयान जारी करके कहा है कि ये बात कुछ अजीब लगती है कि बीबीसी ने पुलिस को इस बारे में जानकारी नहीं दी जबकि इस प्रोग्राम की शूटिंग दिसंबर में हुई थी.

बीबीसी ने कहा है कि प्रोग्राम प्रसारित होने से पहले वो कोई जानकारी पुलिस को देने के लिए बाध्य नहीं है लेकिन इसकी जांच में वो हर सहयोग करने को तैयार हैं.

मौत और मरने से संबंधित एक डॉक्यूमेंट्री में नॉटिंघम के इस फ़िल्मकार ने कहा कि उन्होंने अपने प्रेमी को वादा किया था कि अगर उसका कष्ट बढ़ जाता है तो वो कदम उठाएंगे.

सोमवार को प्रसारित कार्यक्रम में रे गोसलिंग ने बताया कि कैसे उन्होंने अस्पताल में ही अपने प्रेमी के मुंह पर तकिया रखकर उसका दम घोंट दिया जब डॉक्टरों ने कहा कि आगे कुछ और नहीं किया जा सकता.

केयर नॉट किलिंग के डॉक्टर पीटर सॉंडर्स का कहना है कि गोसलिंग का मामला “आत्महत्या में मदद का नहीं है बल्कि जानबूझ कर की गई हत्या का मामला है.’’

Image caption गोसलिंग का ये कार्यक्रम सोमवार को प्रसारित हुआ.

प्रसारण के बाद पुलिस ने कहा है कि वो मामले की जांच कर रहे हैं.

फ़िल्म में गोसलिंग ने कुछ इन शब्दों में बताया है कि कैसे उन्होंने अपने प्रेमी को मारा.

“मैंने डॉक्टर से कहा कि मुझे कुछ देर के लिए छोड़ दो (मरीज़ के साथ) और डॉक्टर चला गया. मैंने तकिया उठाया और उसका (अपने प्रेमी का) मुंह तबतक दबाकर रखा जबतक वो मर नहीं गया. जब डॉक्टर लौटा तो मैने कहा कि वो जा चुका है और फिर कोई बात नहीं हुई. जब आप किसी से प्यार करते हैं तो उसे कष्ट में देखना बहुत मुश्किल होता है.’’

उनका कहना था, “ये एक बहुत मुश्किल घड़ी थी. मैं उससे बेहद प्यार करता था.’’

उन्होंने कहा, “हम दोनों के बीच बात हुई थी कि अगर दर्द बहुत बढ़ जाए और डॉक्टर कुछ न कर सकें तो फिर मैं उसे ज़्यादा खिंचने नहीं दूं. मुझे नहीं लगता है कि मैने कोई गुनाह किया है. यदि वो ऊपर से मुझे देख रहा होगा तो उसे गर्व होगा.’’

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए