कपिल सिब्बल के विरोध में प्रदर्शन

तेलंगना समर्थक
Image caption अलग तेलंगाना राज्य बनाने की माँग को लेकर धरना-प्रदर्शन लगातार हो रहा है.

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री कपिल सिब्बल को हैदराबाद में एक कड़वा अनुभव हुआ जब हैदराबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय में तेलंगाना समर्थक छात्रों ने उनका रास्ता रोका और उनके विरुद्ध धरना किया.

शनिवार को हुआ यह विरोध प्रदर्शन इतना तेज़ था कि मंत्री को अपना कार्यक्रम रद्द करके वहां से लौट जाना पड़ा.

कपिल सिब्बल, केंद्रीय विश्वविद्यालयों के कुलपतिओं के एक सम्मलेन में भाग लेने के लिए आए थे. क़रीब 200 तेलंगाना समर्थक छात्रों ने मंत्री का रास्ता रोका. छात्रों ने माँग की कि तेलंगाना राज्य के निर्माण की प्रक्रिया शुरू करने के लिए केंद्र सरकार तुरंत संसद में बिल प्रस्तुत करे.

उन्होंने श्रीकृष्ण समिति के विरुद्ध भी नारे लगाए और कहा कि वो तेलंगाना की मांग को ठंडे बस्ते में डालने का एक प्रयास कर रहे हैं.

धरना-प्रदर्शन कर रहे छात्र कपिल सिब्बल से तेलंगाना के विषय पर उनका रुख भी जानना चाहते थे. इस सवाल पर कपिल सिब्बल ने केवल इतना कहा कि वो एक सम्मलेन में भाग लेने आए हैं. इस जवाब पर छात्र और भी उत्तेजित हो गए और धरने पर बैठ गए.

धरने पर बैठे छात्रों को समझाने-मनाने का प्रयास किया गया लेकिन छात्र नहीं मानें. बैठक में शामिल हुए बगैर कपिल सिब्बल को वहां से लौट जाना पड़ा.

उन्हें एक उदघाटन कार्यक्रम में शामिल होना था जिसे रद्द करना पड़ा. बाद में कपिल सिब्बल ने एक प्रेस कॉफ्रेंस में छात्रों के प्रदर्शन पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया.

उन्होंने कहा कि मानक विश्वविद्यालयों पर लगी रोक बनी रहेगी और हर वर्ष जुलाई महीने के बाद किसी नए इंजीनियरिंग कॉलेज को अनुमति नहीं दी जाएगी.

इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेज में प्रवेश के लिए राष्ट्रीय अस्तर पर एक ही परीक्षा के प्रस्ताव पर उन्होंने कहा कि यह अभी प्रारंभिक चरण में है.

संबंधित समाचार