तीन पत्नियाँ, 20 बच्चे और खर्चा सरकार के मत्थे

  • 18 मार्च 2010
ज़ुमा अपनी पत्नियों के साथ
Image caption पत्नी या परिवार के किसी सदस्य के पास आधिकारिक रूप से कोई पद नहीं है.

दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति जैकब ज़ूमा के परिवार पर सरकारी खर्च दोगुना हो गया है.

विपक्षी डेमोक्रेटिक अलायंस के संसद में पूछे गए एक सवाल के जवाब से पता चला है कि राष्ट्रपति की पत्नियों के रखरखाव पर हुआ खर्चा पिछले एक साल में दोगुना हो गया है.

इस ख़बर से कि राष्ट्रपति के परिवार पर दो मिलियन डॉलर या 10 करोड़ रुपए से ज़्यादा का खर्च हुआ है, विपक्ष में हो हल्ला मच गया.

ये खर्च पूर्व राष्ट्रपति थाबो एम्बेकी के खर्च से दोगुना है.

वरिष्ठ मंत्री कोलिंस चाबने ने कहा कि जैकब ज़ूमा के पारिवारिक खर्च को बढ़ाकर 1.5 करोड़ रैंड कर दिया गया है.

ये रक़म जैकब ज़ूमा की तीन पत्नियों और 20 बच्चों के मोबाइल फ़ोन, यात्राओं और नौकरों आदि पर खर्च किए जाएंगे.

ज़ूमा ज़ुलू जनजाति की परंपरा को मानने वाले हैं. ज़ुलू समुदाय में बहुपत्नी प्रथा प्रचलित है.

राष्ट्रपति बनने के बाद जैकब ज़ूमा को 60 दिनों के अंदर अपनी संपत्ति का ब्योरा देना था.

विपक्षी पार्टी इसके लिए दवाब डाल रही हैं, लेकिन नौ महीने बीत जाने के भी वो ऐसा नहीं कर पाए हैं.

राजनीतिक टीकाकार उन्हें आधिकारिक आचार संहिता के उल्लंघन का दोषी मानते हैं. लेकिन राष्ट्रपति जैकब ज़ूमा इस आरोप से इनकार करते हैं.

जीवनशैली पर सवाल

तय समय में अपनी संपत्ति का ब्योरा न दे पाने की वजह से उनकी जीवनशैली पर सवाल उठ रहे हैं.

उनकी पत्नियों या परिवार के किसी सदस्य के पास आधिकारिक रूप से कोई पद नहीं है, फिर भी वे लोग राष्ट्रपति के साथ सरकारी यात्राओं पर जाते हैं.

संसद में इस सवाल का लिखित जवाब देते हुए सरकार की ओर से कहा गया कि राष्ट्रपति जैकब ज़ूमा की पत्नियां कई कल्याणकारी कामों में मदद करती हैं.

सरकार की ओर से कहा गया कि उन्हें वो सभी मदद दी जाती है जो उनके काम के लिए चाहिए.

वर्ष 2009 में जैकब ज़ूमा के राष्ट्रपति पद संभालने के बाद उनकी निज़ी जिंदगी को लेकर आरोप लगते रहे हैं.

जैकब ज़ूमा की पाँच पत्नियां थीं जिनमें एक से तलाक़ हो गया और एक की मौत हो गई. वर्तमान में उनकी तीन पत्नियां हैं.

उन पर बिना शादी किए संतान पैदा करने का भी आरोप लगा था. ये आरोप सही निकला और अवैध संतान को लेकर उन्हें माफ़ी भी मांगनी पड़ी थी.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार