रूस में धमाके,12 की मौत

  • 31 मार्च 2010
Image caption हमले में पुलिसकर्मी भी मारे गए हैं.

रूस के उत्तरी कॉकसस के दागेस्तान इलाक़े में दो बम धमाके हुए हैं जिसमें कम से कम 12 लोगों की मौत हो गई है.

पहला धमाका किज़लयार कस्बे में आंतरिक मामलों के मंत्रालय और एफ़एसबी कार्यालाय के पास हुआ. जबकि दूसरा धमाका बीस मिनट बाद उसी गली में हुआ.

बुधवार को हुए हमले में किज़लयार के पुलिस प्रमुख कर्नल विटली वर्देनीकॉफ़ मारे गए हैं.

अधिकारियों के मुताबिक पुलिस प्रमुख उस भीड़ का हिस्सा थे जहाँ आत्मघाती हमलावर ने आकर ख़ुद को उड़ा दिया.

किज़लयार चेचन्या के साथ दागेस्तान सीमा के पास है.

'गटर से भी ढूँढ निकालें'

प्रधानमंत्री पुतिन ने सुरक्षाबलों से कहा है कि हमलावरों को ‘गटर से भी ढूँढ’ निकाले.जाँचकर्ताओं का मानना है कि हमलावरों का संबंध उत्तरी कॉकसस में सक्रिय चरमपंथियों से है.

दो दिन पहले 29 मार्च को ही रूस की राजधानी मॉस्को में आत्मघाती हमलावरों ने मेट्रो में विस्फोट किया था जिसमें 38 लोग मारे गए थे. इसके बाद रूस में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया था.

पिछले महीने चेचन के विद्रोही नेता डोकू उमारॉफ़ ने चेतावनी दी थी कि अभियान का दायरा रूस तक ले जाया जाएगा, ‘युद्ध उनके शहरों तक पहुंच गया है’.

रूसी ख़ुफ़िया एजेंसी एफ़एसबी के प्रमुख ने मॉस्को हमले के बाद कहा था कि ये धमाके उत्तरी कॉकसस के इस्लामिक विद्रोहियों का काम हो सकता है.

उत्तरी कॉकसस में चेचन्या और इंगुशेतिया शामिल हैं. इन इलाक़ों के अलगाववादी वर्षों से आज़ादी के लिए संघर्ष कर रहे हैं.

चेचन्या में इस्लामिक चरमपंथियों के ख़िलाफ़ चलाए गए अभियान के बाद दागेस्तान में पिछले दो सालों में हिंसा में बढ़ोतरी हुई है. जून 2009 में इलाक़े के आंतरिक मंत्री की हत्या कर दी गई थी.

संबंधित समाचार