अंतरिक्ष शटल डिस्कवरी रवाना

  • 5 अप्रैल 2010
Image caption डिस्कवरी अंतरिक्ष शटल की तीन उड़ाने और होंगी

डिस्कवरी अंतरिक्ष शटल अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन के लिए रवाना हो गया है.

यह शटल की अंतिम उड़ानों में से एक है क्योंकि वर्ष 2010 के अंत तक यह कार्यक्रम बंद हो जाएगा.

डिस्कवरी में सवार अंतरिक्ष यात्री अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन की मरम्मत के लिए तीन बार अंतरिक्ष में चहलक़दमी करेंगे.

शटल को अमरीका के फ़्लोरिडा राज्य के केनेडी स्पेस सेंटर से छोड़ा गया और इसमें पहली बार तीन महिला अंतरिक्ष यात्री सवार हैं.

इस शटल कार्यक्रम की उपयोगिता अब समाप्ति पर है लेकिन अभी यह स्पष्ट नहीं है कि इसका स्थान कौन से यान लेंगे.

राष्ट्रपति बराक ओबामा नासा की भावी दिशा निर्धारित करने के लिए जल्दी ही केनेडी स्पेस सेंटर का दौरा करेंगे.

समझा जाता है कि अमरीका के अंतरिक्ष कार्यक्रम में कटौती से कोई 6,000 नौकरियां जाने का अंदेशा है.

शटल मिशन की उपयोगिता

नासा के शटल प्रबंधन दल ने शनिवार को शटल छोड़े जाने को हरी झंडी दिखा दी थी हालांकि शटल के उपकरणों पर हुए परीक्षणों में कुछ असंगतियां थीं.

इंजीनियरों ने कहा कि ये असंगतियां शटल की प्रक्षेपण सुरक्षा को प्रभावित नहीं करेगीं.

शटल प्रक्षेपण के प्रबंधक माइक मोज़ेज़ ने बताया कि इस मिशन को लेकर टीम में बहुत उत्साह है.

Image caption अंतरिक्ष शटल में पहली बार तीन महिला अंतरिक्षयात्री सवार हैं

अंतरिक्षयात्री रिक मास्ट्रेचियो और क्ले ऐंडरसन अंतरिक्ष में चहलक़दमी करके अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र के एक जाइरोस्कोप को बदलेंगे जो अब काम नहीं करता और अमोनिया की एक टंकी को भी बदलेंगे.

अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र के भीतर की अतिरिक्त गर्मी को बाहर लगे रेडियेटरों तक पहुंचाने के लिए अमोनिया का इस्तेमाल किया जाता है.

अंतरिक्ष यात्री जापानी प्रयोगशाला किबो के बाहर रखे गए बीज प्रयोग को भी वापस लेंगे.

अंतरिक्ष शटल डिस्कवरी में नासा ने एक दाबानुकूलित बरतन में 7,700 किलोग्राम का सामान भी भेजा है.

इसमें अंतरिक्षयात्रियों के शयनकक्ष और विज्ञान अलमारियां हैं जिन्हे स्टेशन की प्रयोगशालाओं में स्थानांतरित किया जाएगा.

डिस्कवरी शटल की इस उड़ान के बाद बस तीन उड़ाने और बाक़ी हैं जिसके बाद यह कार्यक्रम बंद हो जाएगा.

रविवार को सोयूज़ अंतरिक्षयान ने नासा की अंतरिक्षयात्री ट्रेसी कॉल्टवेल डाइसन और रूसी अंतरिक्षयात्री ऐलेक्ज़ेंडर स्क्वोर्त्सोफ़ और मिख़ाइल कोर्निएंको को अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र पहुंचाया था.

ये तीनों अंतरिक्षयात्री अंतरिक्ष केंद्र पर कुछ प्रयोग करेंगे और वहां आने वाले दो शटल मिशनों की मदद करेंगे.

संबंधित समाचार