दो सौ लोग मलबे में दबे

  • 8 अप्रैल 2010
बाढ़
Image caption पहले भू-स्खलन में सौ लोगों की मौत हुई थी

ब्राज़ील में अधिकारियों का कहना है कि ज़बरदस्त बारिश के बाद रियो डे जेनेरो में आए भू-स्खलन से क़रीब दो सौ लोग मलबे में दब गए हैं.

रियो की खाड़ी से आई मिट्टी ने नितेरोई शहर की झोपट्टियों में भारी नुक़सान पहुंचाया है और कम से कम 50 घर बहा ले गई है.

सोमवार से हो रही ज़बरदस्त बारिश और बाढ़ ने रियो डे जेनेरो में भारी तबाही मचाई है और 10 से अधिक भू-स्खलन की घटनाएं हुई हैं.

भू-स्खलने और पानी में डूबने से कम से कम डेढ़ सौ लोगों की मौतों की पुष्टि हो चुकी है और पहले ही हो चुकी है और आशंका है कि मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है.

बचाव टीम अब भी भूस्खलन में बचे लोगों को निकालने का काम कर रही है.

बेघर

इससे पहले ब्राज़ीलियन मीडिया ने ख़बर दी थी कि मलबे में दबे 20 लोगों को ज़िंदा बाहर निकाल लिया गया था. लेकिन बाद में सिविल डिफेंस के प्रवक्ता का कहना है कि कम से कम दो सौ लोग मलबे में दब गए हैं.

अधिकारी खाने और चिकित्सा सहायता से भरे हज़ारों पॉकेट लोगों के बीच बांटे रहे हैं और अब तक 70 हज़ार पॉकेट बांटे जा चुके हैं.

अधिकारियों का कहना है कि चार हज़ार परिवार बेघर हो गए हैं और 10 हज़ार घरों पर ख़तरे के बादल मंडरा रहे हैं.

पूरे राज्य में आपातकाल घोषित कर दिया गया है.

राष्ट्रपति लुई इनासियो लूला ड सिल्वा ने निवासियों से अपील की है कि अगर उन्हें ख़तरा महसूस हो रहा है तो वे घर छोड़ कर बाहर निकल जाएँ.

अधिकारियों के मुताबिक पूरे शहर में यातायात व्यवस्था चरमरा गई है क्योंकि सभी सड़कें पानी में डूबी हैं.

संबंधित समाचार